गुरुग्राम जिला में कोरोना का सुरक्षा चक्र हुआ और मजबूत, सौ प्रतिशत जनसंख्या को लगाई गई वैक्सीन की दोनों डोज़ : डॉ वीरेंद्र यादव, सीएमओ, गुरुग्राम

गुरुग्राम जिला में कोरोना का सुरक्षा चक्र हुआ और मजबूत, सौ प्रतिशत जनसंख्या को लगाई गई वैक्सीन की दोनों डोज़ : डॉ वीरेंद्र यादव, सीएमओ, गुरुग्राम

जिला में 128 प्रतिशत लोगों को पहली व 100 प्रतिशत लोगों को लगाई गई कोरोना रोधी वैक्सीन की दूसरी डोज़

गुरुग्राम, 21 दिसम्बर रवि पथ ;

कोरोना महामारी की दूसरी लहर के दौरान प्रदेश में सबसे अधिक प्रभावित रहा गुरुग्राम जिला आज कोरोना के खिलाफ सौ प्रतिशत टीकाकरण कवरेज हासिल करने वाला हरियाणा व एनसीआर का पहला जिला बन गया है। स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ो के अनुसार जिला में 128 प्रतिशत आबादी को पहली व 100 प्रतिशत लोगों को कोरोना रोधी वैक्सीन की दूसरी डोज़ लगाई जा चुकी है।

गुरुग्राम जिला के सिविल सर्जन डॉ वीरेंद्र यादव ने आज अपने कार्यालय पर आयोजित पत्रकार वार्ता में स्वास्थ्य विभाग की पूरी टीम की इस महत्वपूर्ण उपलब्धि पर अपनी शुभकामनाएं देते हुए कहा कि गुरुग्राम जैसे जिला में जहां फ्लोटिंग जनसंख्या एक मुख्य मुद्दा है, ऐसे में जिला में सौ प्रतिशत आबादी का टीकाकरण होना स्वयं में एक नया कीर्तिमान है। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर में गुरुग्राम जिला प्रदेश में सबसे अधिक प्रभावित रहा था लेकिन जिस तरीके से जिलावासियों व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दृढ़ निश्चय के साथ कोरोना के कुचक्र को तोड़ने व टीकाकरण अभियान को पूर्णता के शिखर तक पहुंचाने में अपना योगदान दिया है। वह देश के बड़े शहरों व प्रदेश के अन्य जिलों के लिए प्रेरणा का मार्ग प्रशस्त करेगा।

डॉ यादव ने कहा कि वैक्सीनेशन अभियान में स्वास्थ्य विभाग की टीम ने समाज के प्रत्येक वर्ग का टीकाकरण करने के लिए विभिन्न प्रकार के कार्यक्रमों के तहत काफी नई पहल की शुरुआत की थी जो आगे चलकर देश के अन्य शहरों में भी लागू की गई। इनमें मॉल में ड्राइव थ्रू, थर्ड जेंडर का टीकाकरण प्रमुख है। उन्होंने कहा कि सौ प्रतिशत टीकाकरण केवल एक माइलस्टोन है। वैक्सीनेशन की प्रक्रिया अभी जारी रहेगी। इसके साथ ही जिला में विभिन्न क्षेत्रों में हजार- हजार की संख्या में सर्वे किया जाएगा जिसमें वैक्सीनेशन से अछूते रहे लोगों का टीकाकरण किया जाएगा।
जिला में बच्चों की जनसंख्या का डेटा एकत्रित किया जा रहा है
डॉ यादव ने कहा कि भविष्य में बच्चों को लगने वाले कोरोनावायरस के टीके के लिए 0 से 6 वर्ष व 06 वर्ष से 18 वर्ष की आयु तक के बच्चों का डाटा एकत्रित किया जा रहा है। ताकि जैसे ही बच्चों के टीकाकरण प्रक्रिया को शुरू किया जाए, उसको जल्द से जल्द रफ्तार दी जा सके।

जिला में टीकाकरण के सफल अभियान की नोडल अधिकारी के रूप में जिम्मेदारी निभा रहे उप सिविल सर्जन डॉ एमपी सिंह ने इस पूरे अभियान की आंकड़ों सहित जानकारी देते हुए बताया कि इसी वर्ष 16 जनवरी से हेल्थ वर्कर्स को टीका लगाने के साथ शुरू हुए इस अभियान को सौ प्रतिशत आबादी तक ले जाने में टीकाकरण के 40 हजार 441 सेशन आयोजित किए गए थे। वहीं 03 नवंबर से शुरू किए गए ‘हर घर दस्तक’ अभियान में जिला के 06 लाख 97 हजार 672 घरों में जाकर 02 लाख 53 हजार 357 लोगों का टीकाकरण किया गया। जिला में गर्भवती महिलाओं के लिए प्रत्येक माह की 09 तारीख को सेशन आयोजित कर 08 हजार 431 महिलाओं को कोरोना रोधी वैक्सीन दी गयी।
डॉ एमपी ने जिला में लगाई गई 41 लाख 28 हजार 596 डोज़ का आंकड़ो सहित विवरण देते हुए बताया कि जिला में 44 हजार 362 हेल्थ वर्कर्स को पहली व 44 हजार 453 को दूसरी वहीं 45 हजार 984 फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहली व 49 हजार 432 को दूसरी डोज़ दी गयी है। जिला में उम्रवार वैक्सीनेशन का डाटा बताते हुए उन्होंने कहा जिला में 18 से 44 आयु वर्ग के 16 लाख 40 हजार 210 लोगों को पहली व 12 लाख 14 हजार 84 लोगों को वैक्सीन की दूसरी डोज़ दी गयी है। वहीं 45 से 59 वर्ष आयु वर्ग के 03 लाख 76 हजार 826 को पहली व 03 लाख 13 हजार 816 लोगों को दूसरी डोज़ दी गयी। 60 वर्ष से ऊपर आयु वर्ग के 02 लाख 12 हजार 338 को पहली व 01 लाख 87 हजार 91 को टीके की दूसरी डोज़ दी गयी है। उन्होंने कहा कि जिला में वैक्सीनेशन अभियान अभी भी जारी है।