तुड़ी ढोने पर प्रतिबंध लगाना तुगलकी फरमान : श्रुति चौधरी

तुड़ी ढोने पर प्रतिबंध लगाना तुगलकी फरमान : श्रुति चौधरी

किसान की आय दुगुनी करना भूली सरकार, मनचाहे फैसले थोपने का आरोप

भिवानी, 02 अप्रैल रवि पथ ,

हरियाणा प्रदेश कांग्रेस कमेटी की कार्यकारी अध्यक्ष और पूर्व सांसद श्रुति चौधरी ने सरकार द्वारा तुड़ी को बाहर भेजे जाने पर लगाए गए प्रतिबंध को लेकर कड़ा ऐतराज जताया है। उन्होंने इसे सरकार का तुगलकी फरमान करार देते हुए कहा कि तुड़ी खरीद व लाने ले जाने पर पाबंदी लगाना बेहद गलत और दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि सरकार की यह घोषणा मौलिक अधिकारों का हनन है।

उन्होंने कहा कि यदि रोक लगानी है तो महंगाई, गुंडागर्दी व भ्रष्टाचार पर लगाई जाए। उन्होंने कहा कि बढ़ती महंगाई से एक और पशुपालकों के लिए गंभीर संकट पैदा हो रहा है, वहीं दूध के रेट बढ़ाने की भी मजबूरी होगी और धीरे-धीरे पशुपालक पशु पालना छोड़ देंगे। जिससे बड़ी-बड़ी कंपनियां दूध के व्यापार पर अपना कब्जा बनाएंगी।

प्रदेश कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष श्रुति चौधरी ने कहा कि भाजपा ने अपने चुनावी घोषणा पत्र में किसानों की आय 2022 तक दुगुनी करने का वायदा किया था लेकिन किसान की बढ़ाने की जगह खर्चा डबल जरूर कर दिया है। खाद के दाम एक बार में 150 रुपए प्रति बैग बढ़ने और पेट्रोलियम उत्पादों की आसमान छूती कीमतें इसका ज्वलंत उदाहरण हैं।

उन्होंने कहा कि विपरीत मौसम के चलते इस बार प्रति एकड़ उत्पादन कम हुआ है। किसान को हुए नुकसान की भरपाई तुड़ी बेचकर पूरी की जा सकती थी। लेकिन मनमाने तरीके से किसानों के भारी भरकम चालान काटे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार का तानाशाही पूर्ण रवैये से किसानों में बड़ा रोष है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी संकट की इस घड़ी में किसानों के साथ खड़ी है और सरकार से मांग करती है कि इस प्रतिबंध को अविलंब हटाकर किसानों को राहत दे।