एचएयू के विद्यार्थियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मिल रहा प्रतिभा निखारने का मौका : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

एचएयू के विद्यार्थियों को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मिल रहा प्रतिभा निखारने का मौका : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

जापान की टोक्यो यूनिवर्सिटी ने एचएयू के दो विद्यार्थियों को भेजे अवार्ड

हाल ही में आयोजित 20वें अंतराष्ट्रीय विद्यार्थी सम्मेलन में हासिल किए थे अवार्ड

हिसार 29 अक्टूबर रवि पथ :

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार निरंतर अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी पहचान बढ़ाता जा रहा है। विद्यार्थियों को भी अपनी प्रतिभा निखारने का मौका मिल रहा है। इसके लिए विश्वविद्यालय की ओर से विश्व के शीर्ष संस्थानों के साथ आयोजित किए जाने वाले आदान-प्रदान कार्यक्रम महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर रहे हैं। ये विचार एचएयू एवं गुजविप्रौवि, हिसार के कुलपति प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज ने कहे। वे कृषि प्रौद्योगिकी एवं तकनीकी महाविद्यालय की द्वितीय वर्ष की छात्रा साक्षी और कृषि महाविद्यालय के तृतीय वर्ष के छात्र वत्सल को टोक्यो यूनिवर्सिटी द्वारा भेजे गए अवार्ड देने के उपरांत बोल रहे थे। ये अवार्ड दोनों विद्यार्थियों ने हाल ही में सेंटर फॉर ग्लोबल इनिशिएटिव, टोक्यो यूनिवर्सिटी ऑफ एग्रीकल्चर, जापान की ओर से आयोजित किए गए 20वें अंतराष्ट्रीय विद्यार्थी सम्मेलन के दौरान हासिल किए थे। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय के विद्यार्थी व वैज्ञानिक लगातार राष्ट्रीय व अंतराष्ट्रीय स्तर पर शिक्षा, अनुसंधान सहित विभिन्न क्षेत्रों में अपनी छाप छोड़ रहे हैं जिससे विश्वविद्यालय का नाम रोशन हो रहा है। उन्होंने कहा कि विश्वविद्यालय की ओर से भी निरंतर इस तरह के विश्व के शीर्ष संस्थानों के साथ आदान-प्रदान व अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जा रहा है जिससे यहां के विद्यार्थियों व वैज्ञानिकों को अपनी प्रतिभा को निखारने के अवसर मिल रहे हैं। कुलपति ने दोनों विद्यार्थियों को बधाई देते हुए उनके उज्जवल भविष्य की कामना की और आगे बढक़र देश का नाम रोशन करने की प्रेरणा दी।
24 देशों के 55 विद्यार्थियों ने लिया था हिस्सा
विश्वविद्यालय की ओर से स्नातकोत्तर अधिष्ठाता एवं अंतरराष्ट्रीय मंच के प्रभारी डॉ. अतुल ढींगड़ा ने बताया कि इस अंतराष्ट्रीय विद्यार्थी सम्मेलन में 24 देशों के 55 विद्यार्थियों ने हिस्सा लिया था। सम्मेलन का मुख्य विषय खाद्य, कृषि और पर्यावरण रखा गया, जिसका मुख्य उद्देश्य कार्यों, अनुसंधानों और शिक्षा को कृषि आधारित मूल्यों के साथ जोडक़र पर्यावरणीय, सामाजिक व आर्थिक स्थिरता को हासिल किया जा सके। इस सम्मेलन के लिए पांच उप विषय निर्धारित किए गए थे, जिसमें प्रतिभागियों को अपनी प्रस्तुति देनी थी। इनमें कृषि, पर्यावरण, शिक्षा, पोषण एवं ईंधन को लेकर अपनी-अपनी प्रस्तुति देनी थी। एचएयू की ओर से छात्रा साक्षी व छात्र वत्सल का चयन किया गया। दोनों विद्यार्थियों का डॉ. रवि गुप्ता, डॉ. दलविंद्र, डॉ. अपर्णा व डॉ. सीमा परमार और विश्वविद्यालय के अंतराष्ट्रीय मंच की टीम ने इस अंतरराष्ट्रीय प्रतिस्पर्धा के लिए मार्गदर्शन किया और गु्रप डिस्कशन एवं पावर प्वाइंट प्रेजेंटेशन के लिए अहम भूमिका निभाई। इस अवसर पर स्नातकोत्तर अधिष्ठाता डॉ. अतुल ढींगड़ा, अंतराष्ट्रीय मामलों के संयोजक डॉ. दलविंद्र व डॉ. रवि गुप्ता भी मौजूद रहे।