दीनबंधु छोटूराम का समाज उत्थान में योगदान सदैव अविस्मरणीय रहेगा: धनखड़

दीनबंधु छोटूराम का समाज उत्थान में योगदान सदैव अविस्मरणीय रहेगा: धनखड़

प्रदेश  भाजपा अध्यक्ष धनखड़ ने पानीपत के अदियाना गांव में किया किसानों व गरीबों के मसीहा को नमन

छोटूराम का जीवन दर्शन गरीबों व किसानों की सेवा करने के लिए प्रेरणादायक -बोले प्रदेश भाजपा अध्यक्ष

चंडीगढ़, 5 फरवरी रवि पथ :

दीनबंधु छोटूराम को किसान, गरीब, मजदूर, शोषित व वंचित वर्ग की सेवा के लिए सदैव याद किया जाएगा। छोटूराम ऐसा व्यक्तिव है कि उनका जीवन दर्शन जानने और पढऩे से समाज उत्थान की सेवा करने की प्रेरणा मिलती है। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष औमप्रकाश धनखड़ ने पानीपत के अदियाना गांव में बसंत पंचमी के पावन पर्व पर आयोजित जयंती समारोह में दीनबंधु छोटूराम को नमन करते हुए यह बात कही।
धनखड़ ने कहा कि छोटूराम ने दुनिया की ताकतवर अंगे्रजी हुकूमत को किसानों हित में गेंहू का भाव तय करने के लिए मजबूर किया। गरीब, मजदूर, शोषित व वंचित वर्ग के हकों की लड़ाई लड़ी और कानून बनवाकर उनके हक दिलवाए। भाखंडा डैम की परियोजना का प्रारूप तैयार कर हरियाणा के खेतों में सिंचाई का पानी पंहुचाने का काम छोटूराम ने किया। धनखड़ ने कहा कि दीनबंधु साधारण परिवार में पैदा हुए थे, गरीबी को जीया था। उन्होंने कष्ट सहते हुए उच्च शिक्षा ग्रहण की और किसान, गरीब व मजदूर के हकों की लड़ाई लड़ी।
धनखड़ ने कहा कि भाजपा की सरकारें दीनबंधु छोटूराम के बताए रास्ते पर आगे बढ रहीं हैं। जोखिम फ्री खेती और पशु पालन बनाने की दिशा में भाजपा की सरकारों ने नीतियां बनाकर लागू कर रही हैं। उन्होंने कहा कि नेताओं को भी छोटूराम के जीवन दर्शन आत्मसात करना चाहिए ताकि समाज उत्थान का भाव पैदा होता रहे। पीएम मोदी ने सांपला में उनकी प्रदेश की सबसे बड़ी प्रतिमा का अनावरण किया, बतौर कृषि मंत्री रहते उन्होंने झज्जर के जिस स्कूल में दीनबंधु पढ़े थे, उसमें छोटूराम की प्रतिमा स्थापित करवाई।
प्रदेश भाजपा अध्यक्ष ने कहा कि हमारे युवाओं को छोटूराम के संस्कारों को अपनाना होगा। फसल उत्पाद को बेचना सीखना होगा और बाजार को पहचान होगा। हम उत्पादन में आगे हैं लेकिन बाजार की मांग को नहीं पहचानते। हमारे युवा मेहनती हैं, साहसी हैं, व्यापार करना और सीख लें ,फिर हमें आगे बढऩे से कोई नहीं रोक सकता। छोटूराम के संस्कार अपनाकर हम भी ईजरायल की तरह ताकतवर बनने की क्षमता रखते हैं। धनखड़ ने मां सरस्वती की वंदना की और हकीकत राय को नमन किया।