एसीएस राजीव अरोड़ा ने सरकारी एवं निजी चिकित्सा संस्थानों में कोविड-19 प्रबंधों की समीक्षा की

एसीएस राजीव अरोड़ा ने सरकारी एवं निजी चिकित्सा संस्थानों में कोविड-19 प्रबंधों की समीक्षा की

हिसार, सिरसा, फतेहाबाद तथा कैथल के अधिकारियों की ली बैठक

हिसार, 16 सितंबर रवि पथ :

स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने वीरवार को कोविड-19 की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर हिसार, सिरसा, फतेहाबाद तथा कैथल जिलों के सरकारी एवं निजी चिकित्सा संस्थानों में किए जाने वाले प्रबंधों की समीक्षा की। गुरु जम्भेश्वर विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय के सेमिनार हॉल में आयोजित बैठक में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन हरियाणा के निदेशक डॉ प्रभजोत सिंह, स्वास्थ्य विभाग के निदेशक डॉ वीके बंसल, मंडलायुक्त चंद्र शेखर, हिसार की उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी, कैथल के उपायुक्त प्रदीप दहिया, फतेहाबाद के उपायुक्त महाबीर कौशिक, सिरसा के उपायुक्त अनीश यादव व संबंधित जिलों के सिविल सर्जन भी मौजूद रहे।
अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव अरोड़ा ने कोरोना वायरस संक्रमण की संभावित तीसरी लहर के दृष्टिगत सरकारी एवं निजी चिकित्सा संस्थानों में स्वास्थ्य सेवाओं से संबंधित सभी प्रकार के प्रबंध समुचित ढंग से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन प्लांट लगाने के साथ- साथ ऑक्सीजन सिलेंडर तथा ऑक्सीजन कंसंट्रेटर के भी समुचित प्रबंध किए जाएं ताकि किसी प्रकार की दिक्कत एवं परेशानी का सामना न करना पड़े। इसी प्रकार से ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित पीएचसी एवं सीएचसी केंद्रों पर ऑक्सीजन कंसंट्रेटर संचालित करने के लिए बिजली सहित अन्य सभी मूलभूत सुविधाओं का समुचित प्रबंध किया जाए।
उन्होंने कोविड-19 के दृष्टिïगत संबंधित जिले के उपायुक्त एवं सिविल सर्जन को निर्देश दिए कि वे स्वयं निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन प्लांट, वेंटिलेटर, आईसीयू तथा बैड आदि प्रबंधों का निरीक्षण करें। निरीक्षण के दौरान निजी चिकित्सा संस्थानों में सरकार द्वारा निर्धारित किए गए मापदंडों के अनुसार उचित प्रबंध न मिलने पर संबंधित संस्थान के विरूद्ध कार्यवाही की जाए। उन्होंने कोविड-19 की प्रथम एवं द्वितीय लहर के दौरान निजी अस्पताल संचालक द्वारा कोरोना संक्रमित से ऑवर चार्जिंग के बारे में भी विस्तृत रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। इसके साथ ही निजी एवं सरकारी अस्पतालों में कोरोना महामारी के दृष्टिïगत स्टाफ को प्रशिक्षित करने के भी निर्देश दिए गए।
अतिरिक्त मुख्य सचिव ने सभी जिलों के सरकारी अस्पतालों में कोविड-19 के दृष्टिगत किए जा रहे प्रबंधों की समीक्षा करते हुए कहा कि जहां पर ऑक्सीजन के प्लांट स्थापित किए गए हैं, उनको समय-समय पर संचालित कर चैक किया जाए ताकि आवश्यकता पड़ने पर प्लांट से संबंधित किसी प्रकार की परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होंने होम आइसोलेशन मरीजों के दृष्टिगत हिसार जिले में 3 हजार तथा अन्य जिलों में 2-2 हजार कोविड किट तैयार रखने के भी निर्देश दिए, साथ ही वैक्सीनेशन के कार्य में तेजी लाते हुए सभी लक्षित समूह का टीकाकरण कार्य पूर्ण करने के लिए भी कहा गया। आरटी पीसीआर लैब की समीक्षा करते हुए सिविल सर्जन को निर्देश दिए गए कि लंबित कार्यों में तेजी लाएं। उन्होंने बैठक के दौरान एनआईसीयू/पीआईसीयू बैड, एंबुलेंस सहित विभिन्न कोविड-19 से प्रबंधों को लेकर संबंधित जिले के उपायुक्त एवं सिविल सर्जन को लंबित कार्य का त्वरित निपटान करने के निर्देश दिए। बैठक में अग्रोहा मेडिकल कॉलेज में किए गए प्रबंधों की भी समीक्षा की गई।
बैठक में हिसार मंडल आयुक्त चंद्रशेखर ने कहा कि संबंधित जिलों में कोविड-19 के दृष्टिïगत समुचित प्रबंध किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में शिविर आयोजित कर लोगों को वैक्सीन लगाई जा रही है। मंडलायुक्त ने कहा कि वैक्सीनेशन में तेजी लाने के लिए मैगा वैक्सीनेशन कैंप आयोजित किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि जो कार्य किए जाने शेष हैं, उनको शीघ्र पूरा करने के लिए कारगर कदम उठाए जाएंगे।
इस अवसर पर हिसार की उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी ने हिसार के निजी अस्पतालों के संबंध में विस्तृत रिपोर्ट दी। उन्होंने कोरोना की प्रथम व द्वितीय लहर के दौरान किए गए प्रबंधों और उनमें और अधिक विस्तार करने की दिशा में भी सुझाव दिए। बैठक में निजी चिकित्सा संस्थानों के प्रतिनिधि, स्वास्थ्य विभाग के चिकित्सकों सहित विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।