स्वहित की बजाए देश व समाज हित पर कार्य करें युवा- एडवोकेट खोवाल

स्वहित की बजाए देश व समाज हित पर कार्य करें युवा- एडवोकेट खोवाल

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय किरतान में एनएसएस शिविर का शुभारंभ

हिसार, 01 जनवरी  रवि पथ :

हरियाणा कांग्रेस लीगल डिपार्टमेंट के प्रदेश चेयरमैन एडवोकेट लाल बहादुर खोवाल ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक योजना (एनएसएस) विद्यार्थियों में राष्ट्रसेवा तथा समाजसेवा की भावना को बढ़ाती है। एनएसएस की गतिविधियों में भाग लेने से न केवल विद्यार्थियों को मिलजुल कर काम करने की प्रेरणा मिलती है, साथ ही अपने आप को शारीरिक व मानसिक तौर पर विकसित करने के अवसर मिलते हैं। एडवोकेट खोवाल शनिवार को राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय किरतान में शुरू हुए सात दिवसीय एनएसएस कैंप के दौरान स्वयंसेवकों को बतौर मुख्य वक्ता संबोधित कर रहे थे। इस दौरान उन्होंने विद्यार्थियों को एनएसएस कैंप में लिए गए अनुभवों को अपनी जीवनशैली में शामिल करने का भी आह्वान किया।
एडवोकेट खोवाल ने कहा कि एनएसएस का आदर्श वाक्य -मैं नहीं, बल्कि आप-से ही पता चलता है कि शिविर में विद्यार्थियों को एकजुट होकर कार्य करने पर जोर दिया जाएगा। एनएसएस राष्ट्र की युवाशक्ति के व्यक्तित्व विकास हेतु युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय भारत सरकार द्वारा संचालित एक सक्रिय कार्यक्रम है। इसकी गतिविधियों में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को समाज के लोगों के साथ मिलकर समाज के हित के कार्य करने की प्रेरणा मिलती है। उन्होंने कहा कि शिविर में स्वयंसेवकों को साक्षरता संबंधी कार्य, पर्यावरण सुरक्षा, स्वास्थ्य एवं सफाई, आपातकालीन या प्राकृतिक आपदा के समय पीडि़त लोगों की सहायता करने आदि का प्रशिक्षण मिलता है जो आने वाली जीवन में उनके लिए एक महत्वपूर्ण कदम साबित होगा। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी जीवन से ही समाजपयोगी कार्यों में रत रहने से उनमें समाज सेवा या राष्ट्र सेवा के गुणों का विकास होता है, जो देश व समाज के विकास के लिए बहुत जरूरी है।
बॉक्स-कानूनी पहलुओं पर भी की चर्चा
शिविर के दौरान एडवोकेट खोवाल ने विद्यार्थियों को कानून के विभिन्न पहलुओं की भी संक्षिप्त जानकारी दी। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को अपने संवैधानिक अधिकारों की जानकारी होना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि जो विद्यार्थी अपने अधिकारों के प्रति जागरूक है, वहीं समाज में न केवल खुद आगे बढ़ सकता है, साथ ही समाज को आगे बढ़ाने में अपना योगदान दे सकता है। उन्होंने कहा कि
बॉक्स- आजादी से पूर्व का है एनएसएस का इतिहास
नेहरू युवा केंद्र के उपनिदेशक नरेंद्र यादव ने कहा कि एनएसएस का इतिहास आजादी से पूर्व का है। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी का मानना था कि युवा वर्ग ही देश को उन्नति के शिखर पर ले जा सकता है। इसलिए उन्होंने स्वयंसेवक संगठन का शुभारंभ किया था, जो आजादी के बाद 1969 में विधिवत रूप से शिक्षण संस्थानों में एनएसएस के रूप में क्रियांवित हुआ। पूर्व जेडएमईओ शैलेश वर्मा ने स्वयंसेवकों से आह्वान किया कि वे स्व हित की बजाए समाज हित व देश हित के लिए कार्य करें ताकि देश को विकास के शिखर पर ले जाया जा सके तथा बताया कि गांधी जी के बताए मार्ग पर चलने का आहवान किया। कार्यक्रम में मंच संचालन कृष्ण गोदारा ने किया। इस मौके पर स्कूल इंचार्ज सुमन राठी, प्रवक्ता कृष्ण गोदारा, विकास गोयल, श्वेता शर्मा, सुरेश सरपंच मात्रश्याम, ओमप्रकाश जलंधरा, तोशिफ चौधरी, सतपाल व हिमांशु खोवाल सहित अन्य गणमान्य मौजूद थे।