भाजपा और जजपा भारत और भारतीय सेना दोनों को कमज़ोर कर रही: परमेन्द्र

June 17, 2022

भाजपा और जजपा भारत और भारतीय सेना दोनों को कमज़ोर कर रही: परमेन्द्र

अग्निवीर के नाम पर युवा का शारिरिक, मानसिक और आर्थिक शोषण होगा: परमेन्द्र

सचिन की मौत के लिए भाजपा,जजपा सरकार जिम्मेदार; परिवार को एक पक्की नौकरी व 50 लाख रुपये का मुआवजा दे सरकार

युवावर्ग को एकता, अहिंसा और संयम से इस योजना का तार्किक विरोध करना होगा; “वन रैंक, वन पेंशन” से शुरू होकर आज “नो रैंक, नो पेंशन” पर ला छोड़ा

जीन्द/ जुलाना 17 जून 2022 रवि पथ :

जुलाना से पूर्व विधायक परमेन्द्र सिंह ढुल ने केन्द्र सरकार को आड़े हाथों लेते हुए हाल ही में लागू की गई अग्निपथ योजना का कड़ा विरोध जताया। उन्होंने कहा कि आज देश का दुर्भाग्य है कि भाजपा सरकार युवा प्रतिभाओं को “यूज़ एंड थ्रो” लायक ही समझ रही है। इस योजना से जहां सेना की काबिलियत पर भी बुरा असर पड़ेगा वहीं जवान सैनिकों में मानसिक अवसाद की घटनाओं में वृद्धि होगी। सोशल सिक्योरिटी और कैरियर सिक्योरिटी की महत्वता को समझना सरकारों के लिए अहम है।

लिजवाना कलां के सचिन की मौत पर गहरा दुःख प्रकट करते हुए उन्होंने इसके लिए केन्द्र की भाजपा, जजपा सरकार को जिम्मेदार ठहराया। उन्होंने सरकार से सचिन के परिवार में एक पक्की नौकरी व 50 लाख रुपये की मुआवजा राशि की मांग रखी। अग्निपथ योजना लाकर मोदी सरकार ने सचिन और उसकी तरह लाखों युवा अभ्यर्थियों का सपना तोड़ा है।

उन्होंने कहा कि इस योजना को लागू करने से पहले पायलट प्रोजेक्ट चलाकर तसल्ली करनी चाहिए थी। मगर हठ व अहंकार से भरी बैठी मोदी सरकार बिना सलाह मशवरा किये सीधा निर्णय लेती हैं और बाद में देशवासियों को खून के आंसू रुलाती है। नोटबन्दी भी कुछ ऐसा ही निर्णय था। इस योजना के खिलाफ आज देशभर का युवावर्ग व भारतीय सेना के वर्तमान और रिटायर्ड अफसर लामबंद होकर खड़े हैं।

कॉरपोरेट जगत का उदाहरण देते हुए उन्होंने कहा कि इंटर्नशिप देने के नाम पर अक्सर कम्पनियां युवाओं का शोषण करती हैं। ठीक वैसा ही मानसिक व आर्थिक शोषण अब युवाओं के साथ भारतीय सेना में नौकरी पाने के लिए होने लगेगा। मोदी सरकार युवाओं के सपनों की सबसे बड़ी दुश्मन है। भाजपा सरकार को यह भी नहीं मालूम की एक सैनिक होना क्या होता है। जिस तरह राज्य पुलिस व्यवस्था का बेड़ा गर्क किया उसी प्रकार का हश्र गौरवशाली भारतीय सेना का भी कर देंगे।

उन्होंने कहा कि जैसे नोटबन्दी के घातक निर्णय ने देश की अर्थव्यवस्था को तबाह किया था ठीक वैसे ही अग्निपथ योजना भी युवाओं के भविष्य को तबाह कर डालेगी। यह गौर करने का विषय है कि जब तक युवक की उम्र ब्याह लायक होगी, तब तक उसकी नौकरी भी वापस ले ली जाएगी। शादी के मंडप में बैठने से पहले वह भाजपा , जजपा सरकार द्वारा बेरोज़गार बना दिया जाएगा।

भारतीय सेना में ऐसी ठेका प्रथा हर हालत में अस्वीकार्य रहेगी। इससे सेना की कार्यशैली में भी व्यापक बुरा असर पड़ेगा। अग्निवीरो को न ही कोई रैंक दी जा रही और न ही कोई पेंशन व अन्य आर्थिक राहतें। नियमित भर्ती प्रणाली भी रद्द कर दी जा रही है। ऐसे में युवाओं का हर स्तर पर शारिरिक, आर्थिक और मानसिक शोषण होगा।

उन्होंने कहा कि सरकार को इस स्कीम को तत्काल प्रभाव से वापस लेना होगा।