संस्कृत के कारण भारत विश्वगुरू था तथा आगे भी रहेगा : गंगवा

संस्कृत के कारण भारत विश्वगुरू था तथा आगे भी रहेगा : गंगवा

कैमरी श्री कृष्ण प्रणामी बाल सेवा आश्रम में संस्कृत भारती का आठ दिवसीय प्रबोधनवर्ग का शुभारंभ

संस्कृत में शपथ लेने पर मंत्री डॉ. कमल गुप्ता का किया सम्मान

हिसार, 2 जनवरी  रवि पथ :

संस्कृत को विश्व स्तर तक पहुंचाने के प्रचार-प्रसार में लगी संस्कृत भारती के आठ दिवसीय प्रबोधनवर्ग की शुरुआत आज से श्री कृष्ण प्रणामी बाल सेवा आश्रम कैमरी में हो गई है। पूर्ण रूप से आवासीय प्रान्त स्तरीय इस शिविर के शुभारंभ में मुख्य अतिथि के रूप में शहरी निकाय मंत्री डॉ. कमल गुप्ता और विशिष्ट अतिथि के रूप में विधानसभा उपाध्यक्ष रणबीर सिंह गंगवा मौजूद रहे। अध्यक्षता आश्रम संचालक स्वामी राजदास जी महाराज ने की।
विधानसभा उपाध्यक्ष रणबीर सिंह गंगवा ने संस्कृत भारती के प्रचार-प्रसार की सराहना करते हुए कहा कि संस्कृत के कारण भारत पहले विश्वगुरु था तथा आगे भी विश्वगुरु बनेगा। हम सबको न केवल संस्कृत सीखनी चाहिए अपितु इसके प्रचार-प्रसार में भी अपना सहयोग देना चाहिए। उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार इस अभियान में अपना पूर्ण सहयोग दे रही हैं।उन्होंने विशेषत: मंत्री डॉ. कमल गुप्ता के संस्कृत में शपथ लेने के कार्य के लिए विशेष अभिवादन भी किया। उन्होंने अपने कोटे से सवा लाख रुपये के अनुदान की घोषणा की।
शहरी निकाय मंत्री डॉ. कमल गुप्ता ने कहा कि यह मेरा सौभाग्य है कि विधायक के रूप में भी मुझे गीर्वाण वाणी ने वरदान दिया और मंत्री पद के लिए भी मुझे संस्कृत में शपथ लेने का अवसर दिया। संस्कृत भारती द्वारा उन्हें सुरवाणी गौरवमयी भाषा में सम्मानित करने पर आभार भी जताया। उन्होंने दो-दो लाख रुपये संस्कृत भारती और आश्रम को अनुदान देने की घोषणा की।
मुख्य वक्ता डॉ. दिनेश शास्त्री ने कहा कि संस्कृत भाषा नहीं है अपितु यह हमारी मातृभाषा है। राजा भोज के समय यह जनभाषा थी। संस्कृत भारती के प्रयासों से और आज के युवाओं के बल से पुनः विश्वभाषा बनेगी।
अध्यक्षता कर रहे स्वामी राजदास जी महाराज ने कहा कि कुछ कारण रहे जिनकी बदौलत संस्कृत और संस्कृति को नुकसान हुआ।आज संस्कृत और गुरुकुल अति आवश्यक हो गए हैं।
इस अवसर पर स्वामी दयादास जी महाराज,सारस्वत अतिथि प्रान्त कार्यवाह राष्ट्रीय स्वंय सेवक संघ प्रो.प्रताप सिंह, विभाग संघचालक कमल सरार्फ ,प्रान्त अध्यक्ष डॉ.रामनिवास शर्मा,वर्ग अधिकारी दिलीप सिंह, प्रांतप्रचारप्रमुख श्री सतेन्द्र कुमार, साहित्य प्रमुख पुष्पेंद्र सिंह, वर्ग संयोजक एवं हिसार विभाग संयोजक डॉ. सुरेश कुमार, विभाग सहसंयोजक डॉ. रामदेव तथा व्यवस्था प्रमुख एवं हिसार जनपद संयोजक डॉ. शैलेंद्र सिंह ,प्रचार प्रमुख सुशील शास्त्री, कोष प्रमुख नितेश शास्त्री, अमनदीप, अजय, अनिल ,दीपक आदि विशेष रूप से उपस्थित रहे।

डॉ. कमल गुप्ता ने कार्यक्रम में संस्कृत के प्रति अपना पूर्ण प्रेम जाहिर किया। न केवल वक्तव्य में संस्कृत श्लोकों का प्रयोग किया। वहीं श्लोकों का सही अर्थ बताने वालों का सम्मान भी किया। शिविर में 100 वर्गार्थी शिरकत कर रहे है।जो दस दिन तक यहीं पर रहकर संस्कृत संभाषण में नैपुण्य प्राप्त करेंगे।