हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड लेगा हरियाणा राज्य के अधीन सभी विद्यालयों की 8वी की बोर्ड परीक्षा

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड लेगा हरियाणा राज्य के अधीन सभी विद्यालयों की 8वी की बोर्ड परीक्षा

हरियाणा बोर्ड द्वारा 8वी की बोर्ड परीक्षा लेने पर सीबीएसई स्कूल संचालको ने जताई हैरानी

भिवानी  रवि पथ  :

हरियाणा बोर्ड द्वारा जारी किए गए एक पत्र से हरियाणा में स्थित भिवानी बोर्ड से पंजीकृत प्राइवेट स्कूल संचालको में खुशी की लहर हैं वही सीबीएसई से पंजीकृत स्कूल संचालको ने बोर्ड के इस फैसले से हैरानी जाहिर की हैं

गौरतलब हैं कि हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा एक पत्र राज्य के सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियो के नाम जारी किया हैं जिसमे निदेशक मौलिक शिक्षा ,हरियाणा के पत्र क्रमांक 01-2 -2019 आर.टी.ई (1) दिनांक 25-6-2021 का हवाला दिया गया हैं जिसके अनुसार हरियाणा निःशुल्क एव अनिवार्य बाल शिक्षा का अधिकार नियम 2011 में बदलाव करके कक्षा आठवीं का बोर्ड आरम्भ किया जाना हैं जिसमे हरियाणा राज्य के अधीन सभी विद्यालयों जिसमे सीबीएसई और अन्य शिक्षा बोर्ड से पंजीकृत विद्यालयों सहित आठवी कक्षा के विद्यालयों की परीक्षाएं हरियाणा बोर्ड द्वारा संचालित करवाये जाने बारे विचार किया जा रहा हैं इन परीक्षाओं के शैक्षिक सत्र 2021-22 से संचालित करवाये जाने हेतु बोर्ड कार्यालय को हरियाणा में स्थित सीबीएसई ओर सीआईएसई के विद्यालयों की सूची की आवश्यकता हैं

हरियाणा राज्य के सभी जिला मौलिक शिक्षा अधिकारियों से पत्र के अनुसार अनुरोध किया गया हैं जिसमे उनके अधीन आने वाले जिले के सभी विद्यालयों की सूची एक सप्ताह के अंदर अंदर बोर्ड कार्यालय को भिजवाने का आदेश दिया गया हैं बोर्ड कार्यलय के इस जारी पत्र से जहां हरियाणा शिक्षा विभाग से पंजीकृत स्कूल संचालको में खुशी की लहर हैं वही सीबीएसई से पंजीकृत स्कूल संचालको ने हैरानी जाहिर की है सीबीएसई स्कूल संचालको का कहना है कि राज्य एक स्टेट की स्वायत्तता संस्था हैं जबकि वे सीबीएसई से पंजीकृत है जो केन्द्र सरकार के अधीन हैं जिसके कारण राज्य बोर्ड का यह नियम उन पर लागू नही होता हैं वही हरियाणा बोर्ड से पंजीकृत स्कूल संचालको का कहना है की बोर्ड द्वारा लिया गया सभी स्कूलो की 8वी की बोर्ड परीक्षा का फैसला बच्चो के हित मे हैं और इससे देश और प्रदेश में लागू कर देना चाहिए ताकि शिक्षा के स्तर में सुधार किया जा सके और बच्चो का शिक्षा के प्रति रुझान बढे ओर उनमें महेनत करने की क्षमता का विकास हो सके | वही सीबीएसई स्कूल संचालक इस फैसले को एक थोपने वाला नियम बता रहे हैं

गौर करने योग्य बात है हरियाणा में आरटीई लागू होने के बाद से ही 8वी की बोर्ड परीक्षाएं बंद कर दी थी जिससे छात्रो का पढ़ाई के प्रति रुझान कम हो गया था और 10वी की परीक्षा से पहले उन्हें फैल होने का कोई भय नही था लेकिन साथ ही उनका पढ़ाई के प्रति रुझान भी खत्म हो गया था लेकिन प्राइवेट स्कूल संचालको का कहना हैं कि 8वी की बोर्ड परीक्षा लागू होने से शिक्षा के स्तर में भी सुधार होगा और छात्रो में भी महेनत करने की भावना विकसित होगी

पिछले दिनों प्राइवेट स्कूलो की यूनियन द्वारा बोर्ड चेयरमैन के सामने कुछ मुद्दे उठाए जिस पर डॉ जगबीर सिंह ने सहमति दी | हरियाणा बोर्ड के चेयरमैन डॉ जगबीर सिंह का कहना हैं कि हरियाणा बोर्ड राज्य के अधीन सभी तरह के बोर्ड से पंजीकृत स्कूलो की बोर्ड की परीक्षा लेगा क्योकि एक प्रान्त ओर दो विधान ठीक नही हैं इसके साथ साथ अबकी बार शिक्षा बोर्ड द्वारा 8वी तक मान्यता प्राप्त 2281 स्कूलो के लिए मान्यता का पत्र जारी करेगा और बोर्ड की कोशिश रहेगी कि जिस गांव में परीक्षा का केंद्र हैं उसी गाँव मे प्राइवेट स्कूल का भी परीक्षा केंद्र बनाया जाएगा अगर छात्रो की संख्या ज्यादा होगी तो नजदीकी गांव में परीक्षा का केंद्र बनाया जाएगा ओर अबकी बार सभी एफिलेटेड प्राइवेट स्कूलों की अफिलेशन फीस भी बोर्ड द्वारा ऑनलाइन भरवाई जाएगी ताकि प्राइवेट स्कूल संचालक को बोर्ड कैंपस में नही आना पड़े और स्कूल में बैठे बैठे ही फीस भर सके और अपने बच्चो की पढ़ाई पर ध्यान दे सके

निसा के राष्ट्रीय अध्यक्ष कलभूषण शर्मा का कहना हैं कि निसा यूनियन के द्वारा पहले ही 8वी के बोर्ड के खिलाफ याचिका डाली हुई हैं अगर बोर्ड लागू होता हैं तो 1 साल पर नोटिफिकेशन जारी करना चाहिए ताकि बच्चे अपनी अच्छे से तैयारी कर सके साथ ही निसा का कहना हैं हरियाणा बोर्ड से सम्बन्द्ध रखने वाले स्कूलो को आशंका हैं कि पिछली बार भी हरियाणा बोर्ड ने 8वी तक के स्कूलो की सम्बन्द्धता शुल्क ये कहते हुए भरवाया था कि अबकी बार 8वी की बोर्ड की परीक्षा होगी लेकिन जहां 10वी ओर 12वी की परीक्षाओं पर ही शंका के बादल हैं और अब सितम्बर में हरियाणा बोर्ड द्वारा अचानक 8वी की परीक्षा लेने बारे नोटिस जारी करना तथ्यों पर आधारित नही हैं इसके लिए निसा द्वारा पहले ही कोर्ट में याचिका डाली हुई हैं जब तक उसका फैसला नही आ जाता तब तक 8वी में बोर्ड की परीक्षा लागू नही होनी चाहिए

वही सर्व हरियाणा प्राइवेट स्कूल संघ के प्रदेशाध्यक्ष नरेंद्र सेठी का कहना हैं कि हरियाणा बोर्ड के चेयरमैन डॉ जगबीर सिंह द्वारा 8वी की बोर्ड की परीक्षा लेना शिक्षा जगत के लिए सराहनीय कदम हैं लेकिन इसे हरियाणा राज्य में स्थित सभी बोर्ड और स्कूलो पर लागू करना चाहिए नही तो अकेले हरियाणा बोर्ड के स्कूलो पर यह नियम थोपना हरियाणा बोर्ड के स्कूलो के साथ भेदभाव होगा