सैकेण्डरी परीक्षा का परिणाम रहा शत-प्रतिशत- बोर्ड अध्यक्ष

सैकेण्डरी परीक्षा का परिणाम रहा शत-प्रतिशत- बोर्ड अध्यक्ष

भिवानी, 11 जून, 2021  रवि पथ :

हरियाणा विद्यालय शिक्षा बोर्ड द्वारा सैकेण्डरी (नियमित/कम्पार्टमैंट) परीक्षा
मार्च-2021 का परिणाम आज घोषित किया गया है। इस परीक्षा का परिणाम शत-प्रतिशत रहा है।
परिणाम बोर्ड की अधिकारिक वैबसाईट www.bseh.org.in पर सांय 3:00 बजे से देखा जा सकता
इस परीक्षा परिणाम की घोषणा बोर्ड अध्यक्ष प्रो०(डॉ.) जगबीर सिंह ने आज यहाँ एक प्रेस
कांफ्रेंस में की। इस अवसर पर बोर्ड उपाध्यक्ष श्री वी०पी० यादव व सचिव श्री राजीव प्रसाद, ह0प्र0से0 भी
उपस्थित रहे। अध्यक्ष ने बताया कि यह परीक्षा अप्रैल माह में आयोजित करवाई जानी थी, लेकिन कोविड19 कोरोना महामारी के चलते यह परीक्षा आयोजित नहीं करवाई जा सकी और शिक्षा विभाग, हरियाणा
सरकार के निर्देशानुसार ये परीक्षाएं रद्द कर दी गई थी।
उन्होंने आगे बताया कि सैकेण्डरी (नियमित) परीक्षार्थियों का परिणाम विद्यालयों द्वारा भेजे गए
आंतरिक मूल्यांकन अंक एवं प्रायोगिक परीक्षा के अंकों को आधार मानकर अंक अनुपातिक तौर पर
लगाते हुए तथा कम्पार्टमैंट परीक्षार्थियों का परिणाम परीक्षार्थी द्वारा प्राप्त अन्य उत्तीर्ण विषयों के अंको का
औसत निकालते हुए कम्पार्टमैंट के अंक मानकर घोषित किया गया है।


उन्होंने बताया कि सैकेण्डरी (नियमित) परीक्षा के 3,13,345 परीक्षार्थियों का परिणाम घोषित
किया गया है, जिसमें 1,72,059 छात्र एवं 1,41,286 छात्राएं शामिल हैं। कम्पार्टमैंट परीक्षा के 11,278
परीक्षार्थियों का परिणाम घोषित किया गया है, जिसमें 5,884 छात्र एवं 5,394 छात्राएं शामिल हैं। उन्होंने
आगे बताया कि इस परीक्षा परिणाम में राजकीय विद्यालयों तथा प्राईवेट विद्यालयों की पास प्रतिशतता
शत-प्रतिशत रही है। इसी प्रकार ग्रामीण क्षेत्र के विद्यार्थियों व शहरी क्षेत्र के विद्यार्थियों की पास प्रतिशतता
भी शत-प्रतिशत रही है।
उन्होंने बताया कि सैकेण्डरी वार्षिक परीक्षा मार्च-2021 के लिए जिन परीक्षार्थियों द्वारा आंशिक
विषय अंक सुधार/पूर्ण विषय अंक सुधार एवं अतिरिक्त विषय के लिए आवेदन किया गया था, ऐसे
परीक्षार्थियों को बोर्ड की जब भी आगामी परीक्षा आयोजित करवाई जायेगी उस परीक्षा में उन्हें उसी
आवेदन के आधार पर बिना शुल्क के प्रविष्ठ होने की अनुमति प्रदान की जायेगी। उन्होंने आगे बताया कि
यदि कोई परीक्षार्थी घोषित हुए परिणाम से संतुष्ट नहीं है तो वह बोर्ड की आगामी परीक्षा में श्रेणी सुधार की
परीक्षा में प्रविष्ठ हो सकता है।