जेजेपी और जेकेएमएस में किसी पद पर नहीं थे रामफल फौजी – संजीव मंदौला

जेजेपी और जेकेएमएस में किसी पद पर नहीं थे रामफल फौजी – संजीव मंदौला

रामफल फौजी को जेकेएमएस से एक माह पहले ही कर दिया था पदमुक्त – मंदौला

भिवानी, 16 अप्रैल  रवि पथ :

भिवानी निवासी रामफल फौजी को एक माह पहले ही जननायक कर्मचारी मजदूर संघ (जेकेएमएस) से पदमुक्त कर दिया गया था। फिलहाल रामफल फौजी के पास न तो जेजेपी में कोई पद था और न ही जेकेएमएस में। यह बात जेकेएमएस के प्रदेशाध्यक्ष संजीव मंदौला ने कही।

संजीव मंदौला ने कहा कि जेजेपी ने अपने श्रमिक प्रकोष्ठ सहित सभी प्रकोष्ठ को करीब दो वर्ष पहले ही भंग कर दिया था। उन्होंने कहा कि पार्टी ने श्रमिक व कर्मचारी प्रकोष्ठ की पुनर्गठन की बजाय अलग से कुछ माह पहले ही जननायक कर्मचारी मजदूर संघ का गठन किया था, जिसमें रामफल फौजी को प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई थी लेकिन उनके निरंतर अस्वस्थता व सक्रिय न होने के चलते एक माह पहले ही संगठन ने उन्हें इस पद से मुक्त कर दिया था।

मंदौला ने कहा कि रामफल फौजी द्वारा खुद को जेजेपी श्रमिक प्रकोष्ठ का पदाधिकारी बताना सरासर गलत है क्योंकि जेजेपी में पिछले दो वर्ष से श्रमिक प्रकोष्ठ ही नहीं है। उन्होंने कहा कि पार्टी द्वारा श्रमिकों एवं मजदूरों के हितों के लिए अलग संगठन बनाया है जो कि जेकेएमएस है और इसमें रामफल फौजी को एक माह पहले ही पदमुक्त कर दिया गया था। इनके अलावा रामफल फौजी के साथ जो अन्य पदाधिकारी जेजेपी के बताए जा रहे है वे पिछले दो वर्षों से पार्टी में किसी पद पर नहीं है।