प्रदेश का चिकित्सीय ऑक्सीजन कोटा बढक़र हुआ 257 मीट्रिक टन-मुख्यमंत्री

प्रदेश का चिकित्सीय ऑक्सीजन कोटा बढक़र हुआ 257 मीट्रिक टन-मुख्यमंत्री

प्रदेश के अन्य पांचों ऑक्सीजन प्लांट शीघ्र होंगे चालू

बीपीएस मेडिकल कॉलेज के 100 इंटरनशिप डॉक्टरों सेवा के लिए तैयार

ऑक्सीजन का प्रतिदिन करवाएं ऑडिट

खाद्य सामग्रियों के रेट निर्धारित करके दुकानों पर लगाएं रेट लिस्ट

कोविड के प्रत्येक अस्पताल में लगाएं रेट लिस्ट

एम्बुलेंस के फिक्स रेट का करें निर्धारण

होम आइसोलेशन मरीजों की निगरानी के लिए स्वैच्छिक संस्थाएं आएं आगे

कोरोना की चेन को तोडऩे के लिए उठाएं जाएं कड़े कदम

बीपीएस खानपुर में 10 मीट्रिक टन का कंटेनर होगा स्थापित

सोनीपत का चिकित्सीय ऑक्सीजन कोटा बढक़र हुआ 13 मीट्रिक टन

सोनीपत, 02 मई  रवि पथ :

हरियाणा के मुख्यमत्री मनोहर लाल ने गोहाना के बीपीएस मेडिकल कॉलेज में चिकित्सकों तथा अधिकारियों की समीक्षा बैठक में कहा कि प्रदेश का चिकित्सीय ऑक्सीजन का कोटा बढाकर 257 मीट्रिक टन कर दिया गया है। जिसके बढने से प्रदेश के अस्पतालों में ऑक्सीजन की मात्रा को बढाने के साथ-साथ ऑक्सीजन बेड भी बढाए जाएंगे। जिससे कोरोना संक्रमित मरीजों को आसानी से ईलाज मिल सके।
मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के शेष पांचों ऑक्सीजन प्लांट शीघ्र चालू किए जाएंगे। इनमें सबसे पहले करनाल, पंचकुला, हिसार, सिरसा और फरीदाबाद के ऑक्सीजन प्लांटों का सामान आया हुआ है। सोनीपत जिला के प्रोफेसर जोगिन्द्र सिंह को निर्देश दिए गए हैं कि वे सोनीपत की तर्ज पर अल्प अवधि में दिन-रात मेहनत कर सभी प्लांटों को चालू करें। इन ऑक्सीजन प्लांटों को चालू करने में उन्हें समय से पहले सभी सामान जिला प्रशासन द्वारा तैयार मिलेगा। जिसके लिए जिला उपायुक्तों को निर्देश दे दिए गए हैं।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बीपीएस मेडिकल कॉलेज खानपुर में 100 डॉक्टर डिग्री इंटरनशिप के लिए तैयार है इन सभी डॉक्टरों को प्रत्येक जिला में जहां पर भी जरूरत होगी इन्हें तुरंत वहां भिजवाया जाएगा ताकि डॉक्टरों की कमी को पूरा किया जा सके। जिससे ज्यादा से ज्यादा लोगों को समय पर ईलाज मिलता रहे।
उन्होंने कहा कि प्रदेश के सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन का प्रतिदिन ऑडिट करवाया जाए ताकि कोरोना मरीज को ऑक्सीजन भरपूर मात्रा में मिलती रहे। क्योंकि प्रदेश में ऑक्सीजन की कमी नहीं है। ऑक्सीजन की कालाबाजारी करने वाले तथा जमाखोरो पर शिकंजा कसना होगा। उन्होंने कहा कि जिस मरीज का ऑक्सीजन लेवल 92 है और कोरोना संक्रमित है तो उसे घर पर ही होम आईसोलेशन किया जाए और सरकारी तंत्र के साथ-साथ स्वैच्छिक संस्थाओं को भी आगे आना चाहिए। ताकि वो होम आईसोलेशन मरीजों को उसके घर द्वार पर ही आवश्यक वस्तुएं उपलब्ध हो सके।


मुख्यमंत्री ने कहा कि लॉकडाउन एवं कंटेनमेंट जोन निर्धारित होने की वजह से खाद्य सामग्रियों के गमन एवं आगमन में दिक्कत न हो और कोई भी व्यापरी इस दौर में अमीर बनने की ना सोचे और अनाप-सनाप रेटों पर माल को ना बेंचे। इसलिए खाद्य आपूर्ति विभाग खाद्य वस्तुओं के रेट निर्धारित कर सभी खाद्य सामग्री दुकानों के सामने रेट लिस्ट लगावाना सुनिश्चित करें ताकि नागरिकों पर कोरोना की मार के साथ-साथ खाद्य सामग्रीयों की मार न पड़े।
उन्होंने कहा कि प्रत्येक अस्पताल में एम्बुलेंसों की रेट लिस्ट लगवाई जाए ताकि लोगों को भूगतान में किसी प्रकार की दिक्कत न आए। इसके साथ प्रत्येक अस्पताल में ऑक्सीजन बेड, वेंटीलेटर बेड, सामान्य बेड के रेट लिस्ट की भी सूची निर्धारित करवाकर सभी अस्पतालों में लगवाएं जिससे अस्पतालों द्वारा जनता का शोषण ना किया जा सके। उन्होंने कहा कि कोरोना की चेन को तोडऩे के लिए सरकार कोई भी सख्त कदम उठाने में परहेज नहीं करेगी। कोरोना से संक्रमित प्रत्येक मरीज की पूरी तरह से निगरानी करके उसका ईलाज किया जाएगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि बीपीएस खानपुर में 10 मीट्रिक टन का कंटेनर स्थापित करने की योजना पर कार्य करें। इसके साथ ही अस्पताल में चिकित्सीय ऑक्सीजन प्लांट शीघ्र तैयार करवाएं। सोनीपत जिला का ऑक्सीजन कोटा बढ़ाकर 13 मीट्रिक किया गया है। मरीजों के ईलाज के लिए सरकार के पास धन की कोई कमी नहीं है। उन्होंने डॉक्टरों का आह्वïान किया कि वे मरीजों के साथ मधुर संबंध बनाकर उनके मनोबल को भी उभारे ताकि मानसिक तौर से मरीज अपने आप को लाचार महसूस न करे। उन्होंने कहा कि उनके लिए प्रत्येक मरीज की सेवा करना एवं उसका ईलाज करना सरकार का प्रथम दायित्व है।
इस अवसर पर सांसद रमेश कौशिक, विधायक राई मोहन लाल बड़ौली, विधायक गन्नौर निर्मल चौधरी, एडीजीपी सीआईडी आलोक मित्तल, उपायुक्त श्याम लाल पूनिया, पुलिस अधीक्षक जश्नदीप सिंह रंधावा, सहायक आयुक्त(यूटी) सलोनी शर्मा सहित जिला के चिकित्सक भी उपस्थित थे।