किसानों पर दर्ज मुकदमे वापिस लेने की बात कहकर पहले भी मुकर चुकी है भाजपा सरकार: अभय सिंह चौटाला

किसानों पर दर्ज मुकदमे वापिस लेने की बात कहकर पहले भी मुकर चुकी है भाजपा सरकार: अभय सिंह चौटाला

इनेलो किसानों पर दर्ज मुकदमों की कड़ी निंदा करती है

किसान आंदोलन के दौरान जितने भी किसानों पर मुकद्दमे दर्ज हुए हैं, सभी मुकद्दमे तुरंत प्रभाव से वापिस ले सरकार: अभय

ब्लैक फंगस के लिए इंजेक्शन नहीं मिल रहे, जैसा मुख्यमंत्री का बयान बेहद गैर-जिम्मेदाराना

सही इतिहास लिखना है को कोरोना महामारी पर श्वेत-पत्र जारी करे सरकार

चंडीगढ़, 24 मई  रवि पथ :

सोमवार को प्रशासन द्वारा किसानों पर 16 मई को हिसार में दर्ज किए गए मुकदमे वापिस लेने का आश्वासन देने पर पूर्व नेता प्रतिपक्ष एवं इंडियन नेशनल लोकदल के प्रधान महासचिव अभय सिंह चौटाला ने कहा कि भाजपा सरकार पहले भी किसानों पर दर्ज मुकदमे वापिस लेने की बात कहकर मुकर चुकी है, यह सरकार विश्वास करने लायक नहीं है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन के दौरान जितने भी किसानों पर मुकद्दमे दर्ज हुए हैं उनकी कड़े शब्दों में निंदा करते हैं और मांग करते हैं की कि सरकार किसानों पर दर्ज सभी मुकद्दमे तुरंत प्रभाव से वापिस ले।
किसान आंदोलन को एक साल पूरा होने पर संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा 26 मई को ‘काला दिवस’ मनाए जाने का समर्थन करते हुए अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इनेलो पार्टी चौधरी देवी लाल का लगाया हुआ पौधा है जो किसानों की पार्टी है और पहले दिन से ही किसानों के साथ कंधे से कंधा मिला कर खड़ी है। भाजपा-गठबंधन सरकार में अन्नदाता की जितनी अनदेखी व बेकद्री हुई है इससे पहले कभी नहीं देखी। अन्नदाता सरकार के सामने जब भी अपनी कोई जायज मांग या बात रखने की कोशिश करता है तो बजाय उसकी मांगों की सुनवाई के, उसको बदले में लाठियां और आंसू गैस के गोले मिले हैं। फिर भी अन्नदाता सब्र और धैर्य रखते हुए अपनी लड़ाई लड़ रहा है।


इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा-गठबंधन सरकार आज तक चाहे किसान, मजदूर, व्यापारी, कर्मचारी वर्ग की बात हो, किसी भी वर्ग का कोई भी मुद्दा हल नहीं कर पाई है। आज लगता ही नहीं है कि प्रदेश में कोई प्रजातांत्रिक सरकार है, ऐसा लगता है जैसे प्रदेश में जंगलराज है। हरियाणा प्रदेश जो कभी भाईचारे की मिसाल होता था आज भाजपा सरकार ने प्रदेश में सामाजिक ताना-बाना तार-तार कर दिया है, चारों तरफ अराजकता का माहौल बना दिया है। कोरोना महामारी को रोकने के लिए पुख्ता इंतजाम करने में जिस तरह से सरकार फेल हुई है उसके बाद अब मुख्यमंत्री का ब्लैक फंगस के लिए इंजेक्शन नहीं मिल रहे जैसा गैर-जिम्मेदाराना बयान देने से साबित हो गया है कि मनोहर लाल खट्टर प्रदेश के मुख्यमंत्री पद के काबिल नहीं है।
प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री द्वारा कोरोना महामारी पर इतिहास लिखे जाने वाले दिए गए बयान पर अभय सिंह चौटाला ने कहा कि इतिहास वो लिखते हैं जिसमें कुछ उपलब्धि हासिल की हो, पर इस कोरोनाकाल में तो सरकार ने जनता को मौत के मुंह में धकेलने का काम किया है। अगर सही इतिहास लिखना है तो कोरोना महामारी पर श्वेत-पत्र जारी करे और प्रदेश की जनता को बताएं कि कोरोना संक्रमित मरीजों को वैंटीलेटर, आक्सीजन, बैड और दवाइयां क्यूं उपलब्ध नहीं करवा पाए। आक्सीजन और दवाइयों की सरेआम कालाबाजारी क्यों हुई जिसके कारण बेकसूर लोगों ने तड़प-तड़प कर दम तोड़ दिया।