लोकतांत्रिक देश का नागरिक होने के नाते मतदान कर अपने कर्तव्य का करें पालन : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

लोकतांत्रिक देश का नागरिक होने के नाते मतदान कर अपने कर्तव्य का करें पालन : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

एचएयू में मतदाता दिवस आयोजित, कुलपति ने दिलाई शपथ

हिसार  रवि पथ :

चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय में मतदाता दिवस का आयोजन किया गया। इस अवसर पर कुलपति प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज ने कुलपति सचिवालय में अधिकारियों व कर्मचारियों को शपथ दिलाते हुए कहा कि हमें लोकतांत्रिक देश का नागरिक होने के नाते परम्पराओं की मर्यादा को बनाए रखते हुए अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए। इस दौरान स्वतंत्र, निष्पक्ष व शांतिपूर्ण निर्वाचन गरिमा को बनाए रखते हुए निर्भीक होकर धर्म, वर्ग, जाति, समुदाय, भाषा या अन्य किसी प्रलोभन से प्रभावित हुए बिना अपने मताधिकार का प्रयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि किसी भी लोकतांत्रिक देश में सरकार बनाने में सबसे बड़ी भूमिका मतदाताओं की होती है। मतदाता अपने बहुमूल्य वोट से दल विशेष को पांच साल के लिए सत्ता में लाते हैं और देश व राज्य के विकास के लिए एक नागरिक होने के अपने कर्तव्य को पूरा करते हैं। उन्होंने कहा कि अभी भी भारत जैसे सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश में मतदान को लेकर लोगों का रुझान कम है। मतदाताओं को वोट के महत्व के बारे में जागरूक करने के लिए हर साल राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जाता है। इसके तहत देश में 18 साल की उम्र के हो चुके युवाओं को पहली बार मतदान करने का मौका मिले, इसके लिए निर्वाचन आयोग मतदाता दिवस के दिन उनकी पहचान कर ऐसे युवाओं को पहचान पत्र सौंप कर वोट देने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। इस दिन मतदाताओं को जागरुक किया जाता है कि हर एक वोट देश की तरक्की के लिए जरूरी होता है। मतदाता दिवस मनाने का उद्देश्य पात्र मतदाताओं की पहचान कर उन्हें मत देने के लिए प्रोत्साहित करना है। लोकतांत्रिक देश के नागरिकों को उनके कर्तव्य को याद दिलाने के लिए यह दिन मनाया जाता है। इस बार देश में 12वां राष्ट्रीय मतदाता दिवस मनाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हमें स्वयं जागरूक होकर अपने मताधिकार का प्रयोग करते हुए देश में सरकार बनाने में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए और अन्य लोगों को भी निष्पक्ष व निर्भीक होकर मतदान के लिए प्रेरित करना चाहिए। इस अवसर पर विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. एस.के. महत्ता, कृषि महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. एस.के. पाहुजा, कृषि अभियांत्रिकी एवं प्रौद्योगिकी महाविद्यालय के अधिष्ठाता डॉ. बलदेव डोगरा, वित्त नियंत्रक नवीन जैन, एसवीसी कपिल अरोड़ा, एसपीएस सुरेंद्र सलूजा सहित विश्वविद्यालय के अन्य अधिकारी व कर्मचारी मौजूद रहे।