कृषि संबंधी अनुसंधान का उत्पादन बढ़ोतरी के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण भी हो मुख्य लक्ष्य : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

October 26, 2021

कृषि संबंधी अनुसंधान का उत्पादन बढ़ोतरी के साथ-साथ पर्यावरण संरक्षण भी हो मुख्य लक्ष्य : प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज

एचएयू वैज्ञानिकों एवं प्रदेश के कृषि अधिकारियों की वर्कशॉप, फसलों में नई समग्र सिफारिशों के लिए दो दिन करेंगे मंथन

हिसार  26 अक्टूबर  रवि पथ :

कृषि संबंधी किसी भी रिसर्च का फसलों के उत्पादन में बढ़ोतरी के साथ-साथ पर्यावरण का संरक्षण भी मुख्य लक्ष्य होना चाहिए। उत्पादन बढ़ाने के चक्कर में प्रतिदिन रसायनों के अंधाधूंध प्रयोग व जल दोहन से प्राकृतिक संसाधन नष्ट हो रहे हैं। साथ ही भूमि की उर्वरा शक्ति भी घट रही है। इसलिए प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण का विशेष ध्यान रखना होगा। यह आह्वान चौधरी चरण सिंह हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय हिसार एवं गुजविप्रौवि, हिसार के कुलपति प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज ने किया। वे विश्वविद्यालय में आयोजित कृषि वैज्ञानिकों एवं हरियाणा सरकार के कृषि अधिकारियों की वर्कशॉप को संबोधित कर रहे थे। कार्यक्रम में हरियाणा सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा, आईएएस एव कृषि महानिदेशक डॉ. हरदीप सिंह बतौर विशिष्ट अतिथि ऑनलाइन माध्यम से वर्कशॉप में जुड़े। प्रोफेसर बी.आर. काम्बोज कहा कि वैज्ञानिकों का दायित्व बनता है कि वे किसानों को भूमि की उर्वरा शक्ति बनाए रखने और मिट्टी में सूक्ष्म तत्वों की कमी को पूरा करने के लिए जागरूक करें। उन्होंने किसानों से फसल विविधिकरण को बढ़ावा देने की अपील की ताकि उनकी आमदनी में इजाफा हो सके। परम्परागत खेती से लागत अधिक व आमदनी कम होती है। इसलिए किसान फसल चक्र को अपनाएं। उन्होंने कहा कि देश की आजादी के समय की तुलना में आज फसलों का उत्पादन बहुत अधिक बढ़ गया है, यह सब वैज्ञानिकों की अथक मेहनत से विकसित नई-नई फसलों की किस्मों व उनके द्वारा की गई सिफारिशों का ही नतीजा है।
विश्वविद्यालय की सिफारिशें बहुत ही कारगर, किसान अपनाएं : डॉ. सुमिता मिश्रा
हरियाणा सरकार के कृषि एवं किसान कल्याण विभाग की अतिरिक्त मुख्य सचिव डॉ. सुमिता मिश्रा, आईएएस ने वर्कशॉप के दौरान कहा कि किसानों की आमदनी बढ़ाने के लिए प्रदेश सरकार प्रयासरत है। ऐसे में वैज्ञानिकों व कृषि अधिकारियों का भी फर्ज बनता है कि वे किसानों को परम्परागत खेती की बजाय फसल विविधिकरण के साथ-साथ आधुनिक खेती के तौर तरीकों, मृदा जांच व नवीनतम तकनीकों की जानकारी देते हुए उन्हें जागरूक करें। उन्होंने राज्य सरकार की ओर से किसानों के हित के लिए चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में भी विस्तारपूर्वक जानकारी दी। कृषि महानिदेशक डॉ. हरदीप सिंह ने विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों से आह्वान किया कि वे किसानों के लिए विश्वविद्यालय की समग्र सिफारिशों और विभिन्न फसलों की उन्नत किस्मों की जानकारी को बहुत ही कम सामग्री के साथ हिंदी में मुहैया करवाएं ताकि किसानों को ओर अधिक फायदा मिल सके। ज्यादा से ज्यादा किसान भी विश्वविद्यालय के साथ जुडक़र वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गई तकनीकों और विभिन्न फसलों की उन्नत किस्मों का लाभ उठाएं। उन्होंने कृषि अधिकारियों से आह्वान किया कि वे इस वर्कशॉप के माध्यम से भविष्य की योजनाओं को तैयार करने के लिए गहन मंथन करते हुए महत्वपूर्ण तथ्यों की जानकारी हासिल करें। कृषि विभाग के अतिरिक्त निदेशक(सांख्यिकी)डॉ. आर.एस. सोलंकी ने भी अपने महत्वपूर्ण सुझााव दिए। विश्वविद्यालय के विस्तार शिक्षा निदेशक डॉ. रामनिवास ढांडा ने वर्कशॉप की विस्तृत जानकारी देते हुए निदेशालय द्वारा आयोजित की जाने वाली विभिन्न गतिविधियों जबकि अनुसंधान निदेशक डॉ. एस.के. सहरावत ने विश्वविद्यालय में चल रही अनुसंधान परियोजनाओं के बारे में बताया। विस्तार शिक्षा निदेशालय के सह-निदेशक(किसान परामर्श केंद्र)डॉ. सुनील ढांडा ने मंच का संचालन किया।
ये भी रहे मौजूद
कार्यक्रम में कृषि विभाग के अतिरिक्त आयुक्त(गन्ना)डॉ. जगदीप बराड़ व डॉ. रोहताश, विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ. एस.के. महता, ओएसडी डॉ. अतुल ढींगड़ा, अधिष्ठाता, निदेशक, विभागाध्यक्ष और सभी जिलों के कृषि उपनिदेशक, कृषि अधिकारी, फील्ड अधिकारी व विद्यार्थी शामिल हुए।