बीजेपी ने छोड़ा कर्तव्यकाल का नया जुमला-एडवोकेट खोवाल

बीजेपी ने छोड़ा कर्तव्यकाल का नया जुमला-एडवोकेट खोवाल

आरएसएस के एजेंडे को देश पर थौंपना चाहती है बीजेपी

महामहिम इस बारे में प्रधानमंत्री से मांगे स्पष्टीकरण

हिसार, 02 अगस्त रवि पथ :

हरियाणा कांग्रेस लीगल डिपार्टमेंट ने बीजेपी नेताओं द्वारा कर्तव्यकाल को लेकर छोड़े गए नए जुमले को हास्यास्पद करार दिया है। इस मुद्दे को लेकर डिपार्टमेंट की एक जिला स्तरीय बैठक मंगलवार को कोर्ट कॉम्पलेक्स में आयोजित की गई। इसकी अध्यक्षता जिलाध्यक्ष रतन सिंह पानू एडवोकेट ने की, जबकि डिपार्टमेंट के प्रदेश चेयरमैन एडवोकेट लाल बहादुर खोवाल विशेष तौर पर उपस्थित रहे।

बैठक को संबोधित करते हुए एडवोकेट खोवाल ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहले ही काला धन वापस लाने, सभी के खातों में 15 लाख रूपए डालने, नोटबंदी से आतंकवाद खत्म करने जैसे जुमले छोड़ चुके हैं, वहीं अब बीजेपी कर्तव्यकाल नाम से एक नया जुमला जनता के बीच फैला रही है। इससे साफ जाहिर है कि अभी तक बीजेपी कर्तव्यनिष्ठा के साथ काम ही नहीं कर रही थी और उसका सारा ध्यान देश को गर्त में ले जाने व मित्र उद्योगपतियों की जेबें भरने तक सीमित था।
एडवोकेट खोवाल ने कहा कि हकीकत में बीजेपी के कर्तव्यकाल का मतलब सरकारी एजेंसियों का भय दिखा कर विपक्षी नेताओं को बीजेपी ज्वाइन कराने से है। अगर कोई विपक्ष का नेता बीजेपी ज्वाइन कर लेता है तो मानों वह गंगा स्नान कर लेता है और उसे सभी पापों व आरोपों से मुक्ति मिल जाएगी। उस पर न तो ईडी के छापे पड़ेंगे और न ही भ्रष्टाचार का कोई आरोप लगेगा। उन्होंने कहा कि एक स्वस्थ लोकतंत्र में एक मजबूत विपक्ष को होना जरूरी है जो सरकार के हर जनविरोधी व गलत फैसले पर अपना विरोध जता सके और सरकार की हिटलरशाही को रोक सके। लेकिन बीजेपी अब विपक्ष को खत्म करने पर तुली हुई है। हाल ही में कई बड़े विपक्षी नेताओं पर ईडी व सीबीआई के छापे इसकी ओर इशारे कर रहे हैं। अब भी कुछ नेताओं को बीजेपी में शामिल कराकर उनके गंगा स्थान की तैयारी चल रही है। अगर वे बीजेपी में शामिल नही होते हैं तो उनपर भ्रष्टाचार के आरोप भी लगेंगे और उनपर सरकारी संस्थाओं के छापे भी पड़ने शुरू हो जाएंगे।
संविधान प्रदत्त अधिकारों की अवहेलना
एडवोकेट खोवाल ने कहा कि डॉ भीमराव अंबेडकर की अध्यक्षता में जो संविधान बनाया गया था, बीजेपी उसे बदलकर आरएसएस के एजेंडे पर आधारित संविधान देश पर थौंपना चाहती है। बीजेपी नेता जिस तरह से आगामी 25 साल के लिए कर्तव्यकाल की घोषणा कर रहे हैं, यह इसी ओर इशारा कर रहा है कि देश हिटलरशाही की तरफ जा रहा है। एडवोकेट खोवाल ने कहा कि बीजेपी के सांसद असीमानंद ने चुनाव से पहले भी कहा था कि अगर बीजेपी दुबारा सत्ता में आई तो भविष्य में चुनाव कराने की जरूरत ही नहीं पड़ेगी। हरियाणा में पिछले डेढ़ साल से पंचायती चुनाव न कराना इसी की एक कड़ी है और बीजेपी इस तरह के प्रयोग करके आरएसएस के एजेंडे पर चल रही है। उन्होंने सवाल उठाया कि क्या भाजपा के कर्तव्यकाल की यही संज्ञा है, क्या अब से पहले के प्रधानमंत्री, राष्टपति या अन्य संवैधानिक पदों पर बैठे लोग अपना कर्तव्य नहीं निभा रहे थे। उन्होंने कहा कि अब पूरा देश जाग चुका है। सरकार का वास्तव में जनता व देश के प्रति क्या कर्तव्य होता है, देश की जनता आने वाले समय में बीजेपी को इसका स्वयं बोध करा देगी। उन्होंने महामहिम से भी मांग की कि वे प्रधानमंत्री से इस तरह के असंवैधानिक बयानों पर स्पष्टीकरण मांगे और बीजेपी नेता भी इसके लिए देश से माफी मांगे।
बॉक्स- ये रहे उपस्थित
बैठक में प्रदेश चेयरमैन एडवोकेट खोवाल, जिलाध्यक्ष रतन सिंह पानू, संदीप बूरा जिला संयोजक, प्रदेश सचिव पवन तुंदवाल, प्रदेश सचिव श्वेता शर्मा, प्रदेश सचिव कुलवंत सैनी, ओम प्रकाश धतरवाल, जिला महासचिव विपिन सलेमगढ, गौरव टूटेजा, विवेक भार्गव, हिमांशु आर्य एडवोकेट, सत्यवान जांगड़ा, साहिल लडूना सहित डिपार्टमेंट के अन्य पदाधिकारी व सदस्य मौजूद थे।