डिप्टी सीएम की घोषणा, टोक्यो ओलंपिक के सभी हरियाणा के खिलाड़ी अपने गांव में बनवा सकते है इनडोर स्टेडियम

डिप्टी सीएम की घोषणा, टोक्यो ओलंपिक के सभी हरियाणा के खिलाड़ी अपने गांव में बनवा सकते है इनडोर स्टेडियम

 6 आवासीय और 9 डे बोर्डिंग स्पोर्ट्स अकेडमी खोलने जा रही है राज्य सरकार – दुष्यंत चौटाला

पंचकुला/चंडीगढ़, 13 अगस्त  रवि पथ :

टोक्यो ओलंपिक-2020 में भाग लेने वाला हरियाणा का कोई भी खिलाड़ी अपने गांव में इनडोर स्टेडियम बनवा सकता है। खिलाड़ी की मांग पर प्रदेश सरकार इनडोर स्टेडियम के अलावा ट्रैक एंड फील्ड आदि खेल संबंधित व्यवस्थाएं उनके गांव में स्थापित करेगी। राज्य का पंचायत और खेल विभाग मिलकर खिलाड़ियों की इन मांगों को पूरा करने का काम करेगा। यह घोषणा शुक्रवार को प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने टोक्यो ओलंपिक के हरियाणा के खिलाड़ियों के लिए पंचकुला में आयोजित सम्मान समारोह को संबोधित करते हुए की। डिप्टी सीएम ने कहा कि दो प्रतिशत आबादी वाले हरियाणा प्रदेश के खिलाड़ियों ने टोक्यो में देश व प्रदेश का नाम रोशन किया है। उन्होंने कहा कि सरकार उनके मान-सम्मान व प्रोत्साहन में कोई कोर कसर नहीं छोड़ेगी। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि मेडल लाने वाले हरियाणा के खिलाड़ियों के साथ-साथ टोक्यो में चौथे स्थान पर रहने वाले खिलाड़ियों को भी प्रदेश सरकार पुरस्कार राशि देकर सम्मानित कर रही है।

उपमुख्यमंत्री ने टोक्यो ओलंपिक में पदक जीतने और भाग लेने वाले सभी खिलाड़ियों को बधाई देते हुए खिलाड़ियों के सम्मान में आयोजित इस समारोह को ऐतिहासिक बताया। उन्होंने कहा कि खेलों के प्रति हरियाणा का एक विशेष लगाव रहा है और प्रदेश सरकार भी इसे निरंतर और आगे लेकर जा रही है। दुष्यंत ने कहा कि ओलंपिक में भारत की ओर से कुल 127 खिलाड़ियों ने भाग लिया था जिनमें से 30 खिलाड़ी हरियाणा के थे। उन्होंने कहा कि देश में दो प्रतिशत की आबादी वाले हरियाणा प्रदेश ने टोक्यो की धरती पर देश के कुल सात मेडलों में से अपना 50 प्रतिशत योगदान दिया। डिप्टी सीएम ने आगे “देसां में देस हरियाणा, जित दूध-दही का खाणा” की कहावत सुनाते हुए कहा कि माता-पिता बचपन से अच्छा खान-पान करवाकर बच्चों को खेलों के प्रति समर्पित करते है और सरकार के निरंतर साथ के कारण प्रदेश के खिलाड़ियों ने हमेशा ओलंपिक, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियन गेम में प्रदेश व देश का नाम रोशन किया है।

उन्होंने प्रदेश की खेल नीति की प्रशंसा करते हुए कहा कि करीब दो दशक पहले वर्ष 2000 में सरकार ने पहली बार कर्णम मल्लेश्वरी को 25 लाख रुपये का चेक देकर उन्हें सम्मानित किया था और धीरे-धीरे खेल पॉलिसी के अच्छे नतीजों के कारण प्रदेश सरकार आज ओलंपिक में गोल्ड मेडल जीतने वाले खिलाड़ी नीरज चोपड़ा को छह करोड़, सिल्वर मेडल जीतने वाले पहलवान रवि दहिया को चार करोड़ और ब्रॉन्ज मेडल जीतने वाले पहलवान बजरंग पूनिया को ढ़ाई करोड़ रुपए देकर सम्मानित कर रही है। इतना ही नहीं हरियाणा ऐसा पहला प्रदेश बन रहा है जो ओलंपिक में चौथे स्थान पर रहने वाले खिलाड़ियों को 50-50 लाख रुपये देकर सम्मानित कर रहा है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि चौथे स्थान पर रहने वाले हॉकी के खिलाड़ियों की तर्ज पर दीपक और पूजा को भी 50-50 लाख रुपये की सम्मान राशि मिलेगी। उन्होंने कहा कि इसके साथ-साथ पॉलिसी के तहत सम्मान राशि सीधा खिलाड़ियों के खाते में आज ही भेजी जाएगी और नौकरी के लिए ऑफर लेटर भी आज ही के कार्यक्रम में दिए जाएंगे।

उन्होंने कहा कि पिछले एशियन गेम्स में देश की मेडल टेली में हरियाणा की 33 प्रतिशत, कॉमनवेल्थ गेम्स में 40 प्रतिशत भागीदारी रही थी जो कि अब निरंतर बढ़ रही है और आगे भी इसे कई गुणा बढ़ाया जाएगा। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि चार दशक बाद भारतीय हॉकी खिलाड़ियों ने टोक्यो में इतिहास रचा। उन्होंने कहा कि कोई लंबा सफर जल्दी पूरा नहीं होता है। एक जमाना था जब मेजर ध्यानचंद के समय में नंगे पैर हॉकी खेली जाती थी लेकिन उसके बाद देश में हॉकी खेल में बड़ा परिवर्तन आया। उन्होंने हॉकी खिलाड़ियों ने अपनी हॉकी से टोक्यो में कमाल दिखाया, जो कि ऐतिहासिक है। उन्होंने कहा कि टोक्यो ओलंपिक में देश की तरफ से कुल सात पहलवानों ने कुश्ती खेल में भाग लिया जो कि सभी पहलवान हरियाणा की धरती से थे। इसी तरह बॉक्सिंग खेल में प्रदेश के खिलाड़ियों की 50 प्रतिशत हिस्सेदारी रही, शूटिंग में चार खिलाड़ी हरियाणा से थे, गोल्फ में भी हमारे प्रदेश की बेटी खेली।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि सीएम मनोहर लाल ने मेडल जीतने वाले खिलाड़ियों के गांव में इनडोर स्टेडियम बनाने की घोषणा की है। उन्होंने कहा कि इसको लेकर गोल्ड मेडल विजेता नीरज चोपड़ा पंचकुला में सेंटर फॉर एक्सीलेंस बनवाना चाहते है। वहीं पहलवान रवि और बजरंग की मांग है कि उनके गांवों में इनडोर स्टेडियम बनाए जाए। डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने इस अवसर पर ओलंपिक में भाग लेने वाले सभी हरियाणा के खिलाड़ियों के लिए बड़ी घोषणा की। उन्होंने कहा कि जो भी खिलाड़ी अपने गांव में इनडोर स्टेडियम, ट्रैक एंड फील्ड आदि बनवाना चाहेगा तो हरियाणा का पंचायत और खेल विभाग मिलकर उनके गांव में भी स्टेडियम आदि की व्यवस्था स्थापित करने का काम करेगा।

दुष्यंत चौटाला ने कहा कि देश में हरियाणा ऐसा पहला राज्य है जो ओलंपिक में भाग लेने वाले खिलाड़ियों की तैयारी में कोई अड़चन न आए, इसके लिए पांच लाख रुपये उन्हें पहले देता है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा 511 योग एवं व्यायामशालाएं शुरु की गई, आयुष साहयक के पदों पर एक हजार खिलाड़ियों को भर्ती किया गया और आने वाले समय में 22 कोच भी भर्ती किए जाएंगे। उपमुख्यमंत्री ने कहा कि खिलाड़ियों की खेल संबंधित समस्या, खेल सामान्य ज्ञान आदि की सुविधा के लिए सरकार ने खेलो एप्प लॉन्च किया है। वहीं हरियाणा सरकार ने खिलाड़ियों की निरंतर फिटनेस का ध्यान रखने के लिए हरियाणा स्पोर्ट्स एंड फिटनेस ऑथॉरिटी व खेल परिषद का गठन किया। देश में हरियाणा ऐसा पहला राज्य है जो अर्जुन अवार्डी, द्रोणाचार्य अवार्डी व ध्यानचंद अवार्डी खिलाड़ियों को प्रति माह 20 हजार रुपये और भीम अवार्डी के लिए पांच हजार रुपये प्रति माह पेंशन दे रहा है। यही नहीं सरकार ने इन आवार्डियों को नौकरी भी देने का काम किया है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा छह जिलों में आवासीय खेल एकेडमी खोली गई है और आने वाले समय में पांच जिलों में 9 डे बोर्डिंग स्पोर्ट्स एकेडमी भी खोली जाएंगी। इससे खिलाड़ियों को बेहतर खेल सुविधाएं मिलेगी और राज्य में खेल को बढ़ावा मिलेगा। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि प्रदेश सरकार ने नया कदम उठाते हुए राई स्पोर्ट्स स्कूल को स्पोर्ट्स एकेडमी स्कूल के स्वरूप में आगे बढ़ाने का निर्णय लिया है यानी कि खेल यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी। इस स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के जरिये प्रदेश के ज्यादा से ज्यादा खिलाड़ियों को मेडल के लिए तैयार किया जाएगा। वहीं आज के समारोह के दौरान हरिणाणा सरकार द्वारा की गई नई घोषणाओं के बारे में डिप्टी सीएम ने कहा कि प्रदेश में पांच स्पोर्ट्स सेंटर ऑफ एक्सीलेंस खोले जाएंगे। इनमें हर प्रकार के खेल के खिलाड़ियों को खेल जुड़ी सभी सुविधाएं वन स्टॉप सेंटर के तौर पर उपलब्ध करवाई जाएगी।

दुष्यंत चौटाला ने खिलड़ियों को हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह और नीरज चोपड़ा का उदाहरण देते हुए कहा कि एक खिलाड़ी को कभी चोट से घबराना नहीं चाहिए, नीरज और संदीप ने चोट के बावजूद कभी खेल नहीं छोड़ा और अपने आपको खेल के मैदान में साबित करते हुए देश का नाम रोशन किया। उन्होंने कहा कि ट्रैक एंड फील्ड में नीरज चोपड़ा ने गोल्ड लाकर लठ गाड दिया है। दुष्यंत चौटाला ने कहा कि देश में कीर्तिमान स्थापित करते हुए नीरज वो रोशनी बना हैं जो देश में ट्रैक एंड फील्ड के क्षेत्र में कई चिरागों को जलाने का काम करेगा। इस अवसर पर उपमुख्यमंत्री ने खिलाडियों के कोच व परिवारजनों को भी बधाई दी और खिलाड़ियों को सम्मानित किया।