पवित्र ग्रंथ गीता के मर्म और महत्व को समझने के लिए इसका अध्ययन जरूरी : मंडलायुक्त चंद्रशेखर

पवित्र ग्रंथ गीता के मर्म और महत्व को समझने के लिए इसका अध्ययन जरूरी : मंडलायुक्त चंद्रशेखर

गीता जयंती महोत्सव के दूसरे दिन आयोजित समारोह का किया शुभारंभ

42 वर्ष पूर्व महाविद्यालय में अपने अनुभवों को मंडलायुक्त ने विद्यार्थियों के साथ सांझा किया

सेमिनार में प्रखर वक्ताओं ने गीता के गूढ़ रहस्यों को सरलता से परिभाषित किया

हिसार, 13 दिसंबर रवि पथ :

मंडलायुक्त चंद्रशेखर ने कहा कि प्रत्येक नागरिक को अपने जीवन में गीता का अध्ययन जरूर करना चाहिए। गीता का अध्ययन करके ही व्यक्ति इसके मर्म और महत्व को समझ सकता है।
वे सोमवार को स्थानीय राजकीय स्नातकोतर महाविद्यालय परिसर में गीता जयंती महोत्सव के दूसरे दिन आयोजित समारोह में बतौर मुख्यातिथि अपना व्याख्यान दे रहे थे। समारोह में उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी, अतिरिक्त उपायुक्त एवं गीता जयंती महोत्सव के नोडल अधिकारी स्वप्निल रविंद्र पाटिल तथा नगराधीश विजया मलिक भी उपस्थित रही। इससे पूर्व मंडलायुक्त एवं उपायुक्त ने गीता जयंती महोत्सव के दौरान विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं द्वारा लगाई गई प्रदर्शनी का अवलोकन किया। उन्होंने पतंजलि योग समिति द्वारा यज चिकित्सा पद्धति पर आधारित प्रदर्शनी का अवलोकन करने के उपरांत हवन यज्ञ में आहुति भी डाली।
अपने संबोधन में मंडलायुक्त ने कहा कि हर व्यक्ति अपने घर में गीता की प्रति जरूर रखनी चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों का आह्वान करते हुए कहा कि वे गीता का अध्ययन करके अपने भविष्य को उज्जवल बना सकते हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी को यह प्रण लेना चाहिए कि गीता के संदेश को अपने जीवन में जरूर अपनाएंगे और हमेशा कर्म को प्रधानता देंगे।

42 वर्ष पूर्व महाविद्यालय में अपने अनुभवों को मंडलायुक्त ने विद्यार्थियों के साथ सांझा किया
मंडलायुक्त ने कहा कि 42 वर्ष पूर्व जिस महाविद्यालय की स्टेज पर उन्हें पुरस्कार मिला था, आज उसी महाविद्यालय की स्टेज पर उपस्थित होकर उन्हें बेहद अनुठा अनुभव हुआ है। उन्होंने महाविद्यालय के विद्यार्थियों के साथ 42 वर्ष पूर्व के अपने अनुभवों को सांझा किया और उनसे कहा कि वे वक्त, इंसान और पैसे की कद्र करना सीखें। इस बात का ख्याल अवश्य रखें कि उनके माता-पिता किस प्रकार मेहनत से पैसे को अर्जित करते हैं, इसलिए इसे व्यर्थ की चीजों पर खर्च ना करें। इसी प्रकार से समय का सदुपयोग कर अपने लक्ष्य स्थापित करें और उन्हें हासिल करने की दिशा में मेहनत करें।

कर्म पर ध्यान केंद्रित करें विद्यार्थी, सफलता अवश्य मिलेगी : उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी
उपायुक्त डॉ प्रियंका सोनी ने कहा कि गीता हमें एक ही मूल संदेश देती है कि फल की चिंता किए बिना अपना कर्म करते रहो। फल की चिंता छोडक़र यदि हम अपना पूरा समर्पण केवल कर्म पर रखें तो दुनिया की कोई ताकत हमें लक्ष्य प्राप्त करने से रोक नहीं सकती है। उन्होंने कहा कि मनुष्य को अपने जीवन में कर्म को प्रधानता देनी चाहिए है। विद्यार्थी हमारे देश का भविष्य हैं, विद्यार्थियों को अपना लक्ष्य निर्धारित कर मेहनत करनी चाहिए। सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग तथा जिला प्रशासन द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किए गए तीन दिवसीय गीता जयंती महोत्सव के दौरान आम नागरिकों को गीता का प्रचार एवं प्रसार करने के साथ-साथ विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं के माध्यम से क्रियान्वित की जा रही योजनाओं की भी जानकारी उपलब्ध करवाई जा रही है।
लोक कलाकारों एवं स्कूली विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रमों की दी प्रस्तुति
गीता जयंती महोत्सव के दूसरे दिन सूचना, जन संपर्क एवं भाषा विभाग के लोक कलाकारों ने वंदे मातरम, हरियाणा वंदना, भजन, नरसी भात, गीता भजन तथा अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों के माध्यम से दर्शकों का मन-मोह लिया। लोक कलाकारों ने हरियाणवी संस्कृति से जुड़े अनेक कार्यक्रम प्रस्तुत किए। स्थानीय राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय (नजदीक सुशीला भवन) की छात्राओं द्वारा हरियाणवी नृत्य, श्री वेद प्रकाश व उनकी टीम द्वारा लोकगायन एवं भजन एवं डॉ राखी दुबे गुरू रियाज अकादमी की तरफ से लघु नाटिका (कथक नृत्य-कृष्णा) की प्रस्तुति दी गई।
सेमिनार में प्रखर वक्ताओं ने गीता के रहस्य को सरलता से प्रस्तुत किया
सोमवार को आयोजित सेमिनार में प्रखर वक्ताओं ने गीता के गूढ़ रहस्यों को बड़ी ही सरल भाषा में उपस्थित जनों के समक्ष रखा। राघवेंद्र शास्त्री ने कर्मण्येवाधिकारस्ते माँ फलेषु कदाचन, स्नेह लता ने श्रीमद्भगवद्गीता में कर्मपथ महिमा, डॉ राजेंद्र सिंह ने श्रीमद्भगवद्गीता में यज्ञ महिमा, आचार्य पवन वत्स ने गीता, भक्तियोग तथा धर्म जागरण समन्वय, मुरलीधर पाण्डेय ने गीता एवं प्रबंधन, डॉ सुरेश शास्त्री ने श्रीमद्भागवत गीता महात्स्य तथा डॉ बंता सिंह ने गीता में कर्म योग विषय पर अपने व्याख्यान दिए।
विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं ने प्रदर्शनी के माध्यम से दी जानकारी
गीता जयंती महोत्सव मेंं विभिन्न विभागों एवं संस्थाओं द्वारा प्रदर्शनी भी लगाई गई हैं। इनमें जियो गीता, आर्ट ऑफ लिविंग, गीता प्रेस, पतंजलि/भारत स्वाभिमान ट्रस्ट, योगानंद सत्संग, जिला विधिक सेवाएं प्राधिकरण, मिशन ग्रीन फाउंडेशन, खादी ग्राम उद्योग, जिला बाल कल्याण परिषद, ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय, जिला रैडक्रॉस सोसायटी, अक्षय ऊर्जा विभाग, सन्नी हर्बल मेहंदी, कृष्ण गौशाला एवं अनुसंधान केंद्र, जिला निर्वाचन कार्यालय, एनआईसी सरल, एनआरएलएम, पंजाब नेशनल बैंक, आयुष विभाग, स्वास्थ्य विभाग, हरियाणा कृषि विश्वविद्यालय, हिसार, पशुपालन विभाग, बागवानी एवं कृषि विभाग, जिला उद्योग विभाग, वीटा, महिला एवं बाल विकास, हैफेड, कोविड वैक्सीनेशन तथा सूचना एवं जन संपर्क विभाग द्वारा योजनाओं, कार्यक्रमों एवं उत्पादों की जानकारी देने के लिए प्रदर्शनी लगाई गई हैं। इस अवसर पर विभिन्न विभागों के अधिकारी एवं गणमान्य नागरिक भी मौजूद रहे।