भूमाफिया ने रातोंरात गिरा दी 15 दुकानें, फरार गैंगस्टर के खिलाफ गृहमंत्री से मिले दुकानदार 

 भूमाफिया ने रातोंरात गिरा दी 15 दुकानें, फरार गैंगस्टर के खिलाफ गृहमंत्री से मिले दुकानदार 

रवि पथ :

अंबाला के बराड़ा में रातो-रात भूमाफिया के साथ मिलकर 15 दुकानें गिराने वाला गैंगस्‍टर मोनू फरार हो चुका है। अब ये मामला गृहमंत्री अनिल विज के दरबार तक पहुंच गया है। विज से मिले दुकानदारों ने दुकानें खाली नहीं करने की बात कही है। अब नजर मोनू की गिरफ्तारी पर है, जिसके बाद भूमाफिया से जुड़े कई लोगों के नाम सामने आ सकते हैं। मामला बुधवार रात का है। गैंगस्टर मोनू राणा के गुर्गों द्वारा पंद्रह दुकानों पर जेसीबी चलाने के मामले में गैंगस्टर की गिरफ्तारी के बाद ही भूमाफिया के खेल का पर्दाफाश होगा। अभी तक यह साफ नहीं हो पाया है कि इस खेल में कौन शामिल हैं। हालांकि चार आरोपितों की गिरफ्तारी हो चुकी है, लेकिन अभी तक इस खेल के पीछे के लोगों के नाम सामने नहीं आए हैं। गैंगस्टर मोनू राणा फरार चल रहा है, जबकि पुलिस उसकी तलाश में छापमारी कर रही है।

दूसरी ओर दुकानदार भी किसी कीमत पर अपनी दुकानें छोड़ने के लिए तैयार नहीं है। तोड़ी गई दुकानों को दुकानदारों ने रिपेयर करवा लिया है। इनका कहना है कि वे कारोबार करना चाहते हैं, जबकि दुकानें खाली नहीं करेंगे। उल्लेखनीय है कि बराड़ा में फूड कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया के पास रूहानी सत्संग की दुकानें हैं। इन दुकानों को कई साल पहले किराये पर दिया गया था। बीते दिनों इन दुकानों को खाली करने के लिए धमकी दी गई थी। इस पर दुकानदारों ने पुलिस को शिकायत दी थी, जिस पर पुलिस भी भेजी गई। लेकिन बुधवार-वीरवार की रात को ही गैंगस्टर मोनू राणा ने अपने गुर्गों के माध्यम से पंद्रह दुकानों पर जेसीबी चलवा दी। मामला तूल पकड़ गया, जबकि मामला प्रदेश के गृह मंत्री अनिल विज के दरबार में भी पहुंचा। पुलिस की ढीली कार्रवाई पर एसएचओ बराड़ा को सस्पेंड कर दिया गया। दूसरी ओर इस खेल का पटाक्षेप अभी तक नहीं हो पाया है।