धान की जगह वैकल्पिक फसलें उगाएं किसान : अतिरिक्त निदेशक

धान की जगह वैकल्पिक फसलें उगाएं किसान : अतिरिक्त निदेशक

कहा, ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा‘ पोर्टल पर किसान 25 जून तक करवाएं पंजीकरण

हिसार, 18 जून  रवि पथ :

अतिरिक्त निदेशक हरियाणा पंचकुला डॉ रोहताश सिंह की अध्यक्षता में उप कृषि निदेशक हिसार के कार्यालय में ‘मेरा पानी-मेरी विरासत‘ स्कीम के बारे में कृषि अधिकारियों की एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में जिले के सभी उप मंडल कृषि अधिकारी, सभी विषय विशेषज्ञ एवं खंड कृषि अधिकारियों ने भाग लिया। हरियाणा सरकार द्वारा चलाई जा रही ‘मेरा पानी-मेरी विरासत‘ स्कीम को अच्छे ढंग से क्रियान्वित करने के लिए पर विस्तार से चर्चा की तथा किसानों के मध्य प्रचार-प्रसार हेतू दिशा-निर्देश दिए।
अतिरिक्त निदेशक ने हांसी ग्रामीण क्षेत्र में किसान करण सिंह के खेत का दौरा कर उपस्थित किसानों को उक्त स्कीम बारे जागरूक किया। उन्होंने बताया कि धान की जगह वैकल्पिक फसलें जैसे- मूंग, मक्का, उड़द, ग्वार, मूंगफली, चारा एवं सब्जी इत्यादि की बिजाई करें ताकि पानी की बचत भी हो तथा सरकार द्वारा दी जाने वाली प्रोत्साहन राशि 7 हजार रुपये प्रति एकड़ का फायदा भी उठाएं। यदि किसी किसान ने पिछले वर्ष धान की बजाए कोई वैकल्पिक फसल लगाई थी और इस वर्ष भी वैकल्पिक फसल लगाता है तो ऐसे किसान को भी 7 हजार रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि के रूप में दिये जाएंगे। उन्होंने किसानों से कहा कि वे धान छोडक़र जो वैकल्पिक फसल लगा रहे हैं, अपना पंजीकरण ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा‘ पोर्टल पर 25 जून तक अवश्य करवा लें।


उप कृषि निदेशक हिसार डॉ विनोद फोगाट ने भी किसानों को विभाग द्वारा चलाई जा रही स्कीम ‘मेरी फसल-मेरा ब्यौरा‘ पोर्टल पर शत-प्रतिशत पंजीकरण करवाने हेतू किसानों को जागरूक किया। इस दौरान उपमण्ड़ल कृषि अधिकारी डॉ जागीर सिंह, खंण्ड कृषि अधिकारी डॉ ईश्वर दत्त सहित संबंधित अधिकारी भी मौजूद रहे।