स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू रोगियों की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत हेल्पलाइन नम्बर किया जारी : डॉ सुभाष खतरेजा

स्वास्थ्य विभाग ने डेंगू रोगियों की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत हेल्पलाइन नम्बर किया जारी : डॉ सुभाष खतरेजा

डेंगू से प्रभावित पाए गए मरीजों के क्षेत्रों में की जा रही है फॉगिंग

जिले में बुधवार को डेंगू से संक्रमित 21 नए मामले सामने आए

हिसार, 27 अक्टूबर  रवि पथ :

स्वास्थ्य विभाग द्वारा डेंगू एवं मलेरिया के घर-घर जाकर सैंपल लिए जा रहे हैं। विभाग द्वारा डेंगू रोगियों की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत हेल्पलाइन नम्बर जारी किया गया है। हेल्पलाइन के माध्यम से रोगी अपनी समस्या का समाधान शीघ्र करवा सकते हैं।
यह जानकारी देते हुए जिला मलेरिया प्रभारी एवं उप सिविल सर्जन डॉ सुभाष खतरेजा ने बताया कि विभाग द्वारा डेंगू एवं मलेरिया के प्रभाव से बचने के लिए लोगों को जागरूक किया जा रहा है। डेंगू व मलेरिया की जांच के लिए अस्पतालों में समुचित प्रबंध किए गए हैं। उन्होंने कहा कि रोगी डेंगू/मलेरिया होने की स्थिति में योग्य चिकित्सक से सलाह लें और अपना पूरा ईलाज करवाए। स्वयं अपने स्तर पर दवा का सेवन न करें, गैर जरूरी दवा से शरीर को नुकसान पहुंचता है। डेंगू संदिग्ध है, तो भी जांच अवश्य करवाएं तथा सोशल मीडिया पर भ्रामक प्रचार से भ्रमित न हो। उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य केंद्रों में डेंगू एवं मलेरिया से पीड़ित रोगियों के उपचार की समुचित व्यवस्था की गई है। नगर निगम द्वारा भी शहर में डेंगू से प्रभावित पाए गए मरीजों के क्षेत्रों में फॉगिंग भी की जा रही है। उन्होंने जिले के नागरिकों से अनुरोध किया है कि जहां पर पानी खड़ा है, वहां पर काला तेल/सरसों का तेल डालें, ताकि लार्वा ना पनप सके।
उन्होंने बताया कि डेंगू एवं मलेरिया की बढ़ती संख्या के दृष्टिगत विभाग द्वारा 24 घंटे के लिए हेल्पलाइन नम्बर 94164-95690 जारी किया गया है। हेल्पलाइन नम्बर पर कॉल करके कोई भी समुचित जानकारी हासिल कर सकते हैं। उन्होंने बताया कि जिले में बुधवार को डेंगू से संक्रमित 21 नए मामले सामने आए हैं। अभी तक 1589 डेंगू आशंकित लोगों के सैंपल लिए गए हैं, इनमें से 271 लोगों में डेंगू का संक्रमण मिला है। 177 व्यक्ति डेंगू से रिकवर हो चुके है और फिलहाल जिले में 93 डेंगू सक्रिय मरीज है। उन्होंने बताया कि जिन क्षेत्रों में डेंगू के मरीज पाए गए हैं, वहां पर विभाग के नोडल अधिकारी एवं वरिष्ठ चिकित्सकों द्वारा नियमित रूप से स्थिति का जायजा लिया जा रहा है।