हरियाणा प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की स्थिति बेहद डराने वाली है: अभय सिंह चौटाला

हरियाणा प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की स्थिति बेहद डराने वाली है: अभय सिंह चौटाला

भाजपा गठबंधन सरकार की कुनीतियों के कारण प्रदेश का हर तीसरा ग्रेजुएट युवा हो गया है बेरोजगार

सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) के ताजा आंकड़ों के अनुसार हरियाणा प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की तादाद लगभग 25 लाख पहुंच चुकी है जिसमें 19 लाख के लगभग युवाओं की उम्र 20 से 25 साल के बीच है

आकंठ भ्रष्टाचार में डूबे होने का ही परिणाम है कि आज आयोग न तो भर्तियों में गड़बड़ी रोक पा रहे हैं और न ही फुलप्रूफ प्लान तैयार कर पा रहे हैं

प्रदेश की सरकार का टारगेट युवाओं को रोजगार देने का नहीं है बल्कि प्रदेश को जम कर लूटने का है

चंडीगढ़, 31 जनवरी  रवि पथ :

इनेलो प्रधान महासचिव एवं ऐलनाबाद के विधायक अभय सिंह चौटाला ने कहा कि सेंटर फॉर मॉनिटरिंग इंडियन इकोनॉमी (सीएमआईई) की रिपोर्ट द्वारा बेरोजगारी पर जारी किए गए ताजा आंकड़े बताते हैं कि हरियाणा प्रदेश में बेरोजगार युवाओं की स्थिति बेहद भयानक और डराने वाली है। उन्होंने कहा कि यह बेहद शर्म की बात है कि भाजपा गठबंधन ने जिस बेरोजगारी को खत्म करने का नारा देकर सत्ता हासिल की आज उसी भाजपा गठबंधन की सरकार में हालत यह है कि प्रदेश का हर तीसरा ग्रेजुएट युवा बेरोजगार है।
सीएमआईई के ताजा आंकड़ों के अनुसार हरियाणा में बेरोजगार युवाओं की तादाद लगभग 25 लाख पहुंच चुकी है जिसमें 19 लाख के लगभग युवाओं की उम्र 20 से 25 साल के बीच है। आंकड़ों से पता चलता है कि लगभग 69 प्रतिशत महिलाएं भी बेरोजगारी की लाइन में खड़ी हैं। भाजपा गठबंधन सरकार युवाओं को रोजगार देने में पूरी तरह से फेल साबित हुई है।
इनेलो नेता ने कहा कि भाजपा गठबंधन सरकार में भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया है जिस कारण जहां पेपर लीक, नौकरी बेचने और कई अन्य कारणों से भर्तियों की परीक्षा नहीं हो पाई हैं वहीं ज्यादातर नियुक्तियां अटकी पड़ी हैं। आकंठ भ्रष्टाचार में डूबे होने का ही परिणाम है कि आज आयोग न तो भर्तियों में गड़बड़ी रोक पा रहे हैं और न ही फुलप्रूफ प्लान तैयार कर पा रहे हैं। भाजपा गठबंधन सरकार आवेदन के नाम पर युवाओं को लूट रही है।
प्रदेश की भाजपा गठबंधन सरकार का टारगेट युवाओं को रोजगार देने का नहीं है बल्कि प्रदेश को जम कर लूटने का है। भाजपा गठबंधन सरकार सिर से पैर तक भ्रष्टाचार में डूबी हुई है जिसके परिणामस्वरूप प्रदेश का योग्य युवा आज सरकारी नौकरी को तरस रहा है और सरकार द्वारा रोजगार उपलब्ध न होने के कारण नशे और आपराधिक गतिविधियों में संलिप्त होता जा रहा है। रोजगार न होने के कारण हरियाणा आज जहां बेरोजगारी में नंबर एक पर आ गया है वहीं बेरोजगारी के चलते बढ़ते आपराधिक कार्यों में भी नंबर एक पर है।