विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में स्थानीय एडीआर सेंटर में कार्यक्रम आयोजित

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में स्थानीय एडीआर सेंटर में कार्यक्रम आयोजित

हिसार, 03 मई रवि पथ :


जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं सीजेएम विशाल ने कहा है कि नागरिकों तक सही जानकारी और सूचनाएं पहुंचाना लोकतंत्र के चौथे स्तंभ की अहम जिम्मेवारी है। इसके लिए प्रेस की स्वतंत्रता जरूरी है और इस दिशा में अनेक स्थापित प्रावधान उपलब्ध हैं। 3 मई को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में स्थानीय एडीआर सेंटर में आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने यह बात कही। सीजेएम विशाल ने कहा कि पत्रकारिता की स्वतंत्रता को सुनिश्चित करने के लिए संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा इस दिन विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने का निर्णय लिया गया था। उन्होंने कहा कि भारत के संविधान में सभी नागरिकों को अभिव्यक्ति की आजादी है। लोकतंत्र के मूल्यों की सुरक्षा के लिए हमारे देश में इस आजादी को सुनिश्चित करने के लिए विभिन्न व्यवस्थाएं हैं। इस आजादी के साथ पत्रकारिता जगत से जुड़े लोगों का यह दायित्व भी बनता है कि वे सामाजिक उत्तरदायित्व के मूल सिद्धांत का भी पालन करें और अन्य मसलों के साथ-साथ विकासात्मक मसलों पर भी कार्य करें। सूचना संपन्न समाज की अवधारणा को सार्थक करने के लिए पत्रकारिता जगत की अहम भूमिका है।
कार्यक्रम के दौरान जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के सचिव एवं सीजेएम विशाल ने लोक अदालत और इसके महत्व पर भी विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि गरीब, असहाय तथा वंचितों की न्यायिक प्रक्रिया तक पहुंच को सुनिश्चित करना विधिक सेवा प्राधिकरण का दायित्व है। लोक अदालतों से लोगों के समय और धन दोनों की बचत होती है। लोक अदालतें न्याय का सुलभ साधन है, जहां आपसी समझौते से वाद-विवाद का निपटारा किया जाता है। यह एक ऐसा माध्यम है, जहां बिना किसी खर्च के लोगों को त्वरित न्याय मिलता है। उन्होंने बताया कि आगामी 14 मई को भी जिले के विभिन्न न्यायिक परिसरों में लोक अदालत का आयोजन किया जा रहा है। सीजेएम विशाल ने आमजन से आह्वान किया कि वे सकारात्मक सोच के साथ लोक अदालत के माध्यम से अपना निपटारा करने के लिए अधिक से अधिक संख्या में आगे आएं। इस अवसर पर मीडिया जगत के वरिष्ठ प्रतिनिधियों सहित विधिक सेवा प्राधिकरण के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।